Tuesday, January 25, 2022

अशफाक उल्लाह खान का राष्ट्र प्रेम भावी पीढ़ियों के लिए सदैव अनुकरणीय: उपराष्ट्रपति

- Advertisement -

आज अमर शहीद अशफाक उल्लाह खान की 119वीं जयंती है. इस मौके पर पूरे देश ने उनको नमन किया। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये देश की आजादी के लिये उनके बलिदान को भावी पीढ़ियों के लिये अनुकरणीय बताया।

नायडू ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आज शहीद अशफाक उल्लाह खान की जन्म जयंती के अवसर पर अमर बलिदानी की पुण्य स्मृति को सादर प्रणाम करता हूं। देश के प्रति शहीदों की अविरल निष्ठा राष्ट्रीय चेतना में आज भी अंकित है।”

उपराष्ट्रपति ने देश की युवा पीढ़ी को अशफाक उल्लाह खान से देश प्रेम की प्रेरणा लेने का आह्वान करते हुये कहा कि उनका राष्ट्र प्रेम वर्तमान और भावी पीढ़ियों के लिए सदैव अनुकरणीय रहेगा।

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि अशफाक और राम प्रसाद बिस्मिल ने न सिर्फ साथ मिलकर देश के लिए कुर्बानी दी, बल्कि इंसानियत का पाठ भी पढ़ाया।  उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘अशफ़ाक उल्ला खान और राम प्रसाद बिस्मिल… दोनों की कहानी आपने सुनी होगी तथा आज के समय में इस कहानी को कहना और जरुरी है। आज अशफ़ाक उल्ला खान का जन्मदिन है।’

प्रियंका ने कहा, ‘अशफ़ाक और बिस्मिल शाहजहाँपुर  के रहने वाले थे. दोनों यह जानते थे कि उनके धर्म अलग-अलग हैं। दोनों यह समझते थे कि उनके कई सारे रीति-रिवाज अलग-अलग हैं। लेकिन दोनों ने साथ मिलकर देश के लिए क़ुर्बानी दी और इंसानियत का पाठ पढ़ाया।’ उन्होंने कहा, ‘अशफ़ाक- बिस्मिल की एकता को सलाम और दोनों स्वतंत्रता सेनानियों को शत शत नमन’

उल्लेखनीय है कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारियों की टोली के अग्रणी सदस्य रहे अशफाक उल्लाह खान का जन्म 22 अक्टूबर 1900 को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में हुआ था। उन्हे काकोरी कांड में 17 दिसम्बर 1927 को फांसी दी गई थी।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles