सुकमा सहित देश भर में नक्सल और अन्य हमलों में शहीद हुए परिवारों को अब आईएएस अधिकारी गोद लेकर मदद देंगे. इस अनोखी पहल की शुरुआत असोसिएशन ऑफ आईएएस ने की हैं.

इस पहल के अंतर्गत कहा कि असोसिएशन की और से सभी आईएएस अधिकारी को कहा गया कि वे एक शहीद जवान के परिवार को गोद लेकर 5-10 साल के बीच उनकी मदद करेंगे. ये मदद पेंशन, ग्रैचुटी और अन्य दूसरे काम जैसे बच्चों के स्कूल ऐडमिशन, नौकरी, विशेष ट्रेनिंग जैसे मामलों में की जायेगी. ताकि उन्हें परेशानी का सामना न करना पड़े.

इंडियन सिविल ऐंड ऐडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस(सेंट्रल) असोसिएशन के मानद सेक्रटरी संजय भूसरेड्डी ने कहा,  ‘अधिकारियों को गोद लिए परिवार को प्रत्यक्ष मदद देने की जरूरत नहीं होगी, बल्कि उनका साथ देंगे और उनका सहारा बनेंगे ताकि उन्हें सुरक्षा और भरोसा महसूस हो सके कि इस संकट की घड़ी में देश उनके साथ है.’

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार और रक्षा मंत्रालय, बीएसएफ, सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी से इस बारें में ऐसे परिवारों की जानकारी देने को कहा गया हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?