नागपुर के ब्रह्मोस मिसाइलकी यूनिट से संदिग्ध आईएसआई एजेंट की गिरफ्तारी के बाद अब भारतीय सेना के एक और जवान को जासूसी के आराेप में गिरफ्तार किया गया है। जवान का नाम नाम कंचन सिंह है और इसपर सेना के खुफिया जानकारी बाहर देने का आरोप है।

मेरठ छावनी के सिग्‍नल रेजिमेंट से गिरफ्तार जवान से पूछताछ की जा रही है। उत्तर प्रदेश एंटी-टेररिस्ट स्क्वॉड ने यह बात अभी तक कन्फर्म नहीं किया है कि इस मामले का पहले से चल रहे ब्रह्मोस स्पाई केस की जांच से कोई लेना-देना है।

आरोपी जवान उत्तराखंड का रहने वाला है। वह दस साल से भारतीय सेना में है। जवान तकरीबन 10 महीनों से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों से बातचीत कर रहा था। इसके अलावा जवान की पाकिस्तान के फोन नंबरों पर भी बात हुई है। इससे पहले नोएडा से बीएसएफ के कांस्टेबल अच्युतानंद मिश्रा को भी जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया था।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मई के महीने में यूपी एटीएस ने पिथौरागढ़ से रमेश नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया था। 2017 में फैजाबाद से एक आतंकी गिरफ्तार किया गया था, उसी आतंकी की निशानदेही पर रमेश को गिरफ्तार किया गया था।

अप्रैल 2018 में 23 साल के एक लड़के गौरव को रोहतक से जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। आरोप है कि भर्ती परीक्षा के लिए वह जिन सैन्य शिविरों में जाता था वहां की सूचनाएं आईएसआई को भेजता था।

मार्च 2018 में अमृतसर से भी एक शख्स को जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। इससे पहले वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह को जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया था।

Loading...