श्रीनगरजम्मू-कश्मीर में ‘लगातार नागरिक हत्याओं’ के विरोध में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) से इस्तीफा देने वाले शाह फैसल के फैसले पर सेना प्रमुख विपिन रावत का बयान आया है।

जनरल रावत ने कहा है कि यदि उन्होंने इसलिए यह फैसला लिया है कि वे युवाओं के पास जाकर कहें कि आप बंदूक छोड़ दो, तो अच्छी बात है। उन्होने कहा कि यदि वे (फैसल) लोगों के बीच, समाज के बीच जाते हैं और कहते हैं कि आप क्या कर रहे हो, आप मर रहे हो या इसलिए मर रहे हो कि हथियार उठा रहे हो, तो ठीक है।

Loading...

ध्यान रहे फैसल ने इस्तीफे को लेकर अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘मेरे पास आइडिया है कि मुझे क्या करना  चाहिए, लेकिन मैं अंतिम निर्णय लेने से पहले लोगों के विचार जानना चाहता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘सैकड़ों और हजारों लोगों ने मेरे इस्तीफे पर सैकड़ों और हजारों तरीकों से प्रतिक्रिया दी है। मुझे इसकी पूरी उम्मीद थी। अपशब्दों और प्रशंसा, दोनों की ही बाढ़ आ गई है।’

उन्होंने कहा, ‘अब मैंने सेवा छोड़ दी है। इसके बाद मैं जो करने जा रहा हूं वह इस बात पर भी निर्भर करेगा कि कश्मीर के लोग, खासकर युवा मुझसे क्या चाहते हैं। मेरे पास एक विचार है कि मैं क्या कर सकता हूं। मुझे यकीन है कि आपके पास भी विचार होंगे और आप चाहते होंगे कि अंतिम निर्णय लेने से पहले मैं उन विचारों को जानूं।’ 

फैसल ने लोगों से सुझाव मांगते हुए कहा, ‘अगर आप चाहें तो कल (शुक्रवार को) मुझसे श्रीनगर में आकर भी मिल सकते हैं। हम मिलकर रास्ता सोचेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘मेरा राजनीतिक चयन वास्तविक लोगों द्वारा तय किया जाएगा न कि (फेसबुक) के लाइक और कॉमेंट से तय होगा। मुझसे मिलने कौन आ रहा है, यह जानने के बाद मैं स्थल की जानकारी साझा करूंगा। देखते हैं कि उन सैकड़ों और हजारों लोगों में कितने लोग बात करने के लिए तैयार हैं। बाद में मुझे मत कहना कि मुझे पहले युवाओं से पूछना चाहिए था। धन्यवाद।’ 

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें