रामपुर | उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छात्राओं और सरे राह चलती महिलाओं को मनचलों से बचाने के लिए एंटी रोमियो स्क्वाड का गठन किया था. इस स्क्वाड ने काफी सक्रियता से काम करते हुए काफी मनचलों पर कार्यवाही भी की. लेकिन कुछ ऐसी घटनाएं भी सामने आई है जहाँ एंटी रोमियो स्क्वाड ने मनमानी करते हुए कुछ निर्दोष लोगो को भी प्रताड़ित किया है.

एक ऐसी ही घटना रामपुर शहर में घटित हुई है . जहाँ पुलिस ने चाचा भतीजी को प्रेमी युगल बता करीब 5 घंटे थाने में बिठाये रखा. इसके अलावा रिश्तेदारों के कहने पर भी इन लोगो को नही छोड़ा गया. परिजनों का आरोप है की उनसे 5 हजार रूपए रिश्वत लेकर चाचा भतीजी को छोड़ा गया. जब मामला रामपुर एसपी के संज्ञान में पहुंचा तो उन्होंने कार्यवाही करते हुए दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मिली जानकारी के अनुसार रामपुर जिले के हशमत गाँव के रहने वाला एक शख्स अपनी भतीजी को साथ लेकर दावा खरींदे निकला था. रास्ते में उन्हें पुलिस उपनिरीक्षक संजीव गिरी और सिपाही विमल ने रोक लिया. पुलिसकर्मियों ने दोनों पर प्रेमी युगल होने का आरोप लगाया और उन्हें थाने ले गए. परिजनों को जब इसकी सूचना मिली तो वो तुरंत थाने पहुंचे.

थाने पहुंचकर उन्होंने पुलिस कर्मियों को बताया की ये प्रेमी युगल नही है बल्कि चाचा भतीजी है. इतना बताने के बाद भी उन्होंने दोनों को नही छोड़ा. करीब 5 घंटे थाने में बैठने के बाद पुलिस ने 5 हजार रूपए रिश्वत लेकर दोनों को छोड़ दिया. इस दौरान परिजनों ने रिश्वत लेते हुए पुलिसकर्मियों की विडियो बना ली. इस विडियो को उन्होंने क्षेत्र विधायक और मंत्री बलदेव सिंह आलेख को दिखाया.

विधायक की शिकायत पर एसपी केके चौधरी ने परिजनों से बात की और उनकी द्वारा बनायीं गयी विडियो को देखा. विडियो को देखने और प्रारम्भिक जांच के बाद पुलिस उपनिरीक्षक और सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया. बताते चले की मुख्यमंत्री योगी ने एंटी रोमियो स्क्वाड को निर्देश दिया है की वो केवल मजनुओ पर कार्यवाही करे.

Loading...