pnb

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक के साथ ब्रिटेन में 271 करोड़ की ठगी का मामला सामने आया है। बैंक की सहायक कंपनी ने पांच भारतीयों, एक अमेरिकी और तीन कंपनियों पर मामला दर्ज करवाया है। बैंक का दावा है कि इन्होंने बैंक को गुमराह करते हुए करोड़ों रुपये का कर्ज लिया है।

पीएनबी इंटरनेशनल ने इस मामले में 5 भारतीयों, 1 अमेरिकी और 3 कंपनियों पर केस दर्ज किया है और कोर्ट में दलील दी है कि इन लोगों ने गलत दस्तावेज और बैलेंस शीट दिखाकर कुल 3.7 करोड़ अमेरिकी डॉलर यानी 271 करोड़ रुपए के लोन लिए। यूके कोर्ट में दायर किए गए इस केस में बैंक का कहना है कि बैंक को झूठे और गलत दस्तावेज दिखाकर उनसे लोन लिया गया।

Loading...

पीएनबी का कहना है कि पैसा साल 2011 से लेकर 2014 के बीच यूएस में रजिस्टर्ड 4 कंपनियों डॉलर के रुप में दिया गया था। चारों कंपनियां स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र से संबंधित हैं। इन कंपनियों का नाम है SEPL, Pesco Beam USA, Trishe Wind और Trishe Resources हैं। SEPL ऑयल रिसाइकिल प्लांट ऑपरेट करती है। इस कंपनी पर 17 मिलियन का लोन है। इसमें से 10 मिलियन डॉलर पीएनबी बैंक का और 7 मिलियन डॉलर बैंक ऑफ बड़ौदा का बकाया है।

बैंक का कहना है कि इन लोगों ने साउथ कैरोलिना में तेल रिफाइनिंग यूनिट लगाने और पवन ऊर्जा प्रॉजेक्ट्स विकसित करने और उसे बेचने के लिए उनसे लोन लिया था। लोन के लिए उन्होंने अपना बैलेंस शीट बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया। वहीं प्रॉजेक्ट्स के बारे में गलत आंकड़े पेश किए।

पेप्सो बीम इनवायरमेंटल सॉलूशन (ऑइल रीफाइनिंग में इस्तेमाल होने वाला सिस्टम तैयार करने में महारत) की चेन्नै में फैक्ट्री है और इसके अलावा अमेरिका के वर्जीनिया में भी एक यूनिट है। यह एसईपीएल की 100 फीसदी लाभकारी स्वामी है। पेप्सो यूएसए ने 13 मिलियन डॉलर (लगभग 94 करोड़ 22 लाख रुपये) का डिफॉल्ट किया है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें