Tuesday, June 22, 2021

 

 

 

तमिलनाडु में AIADMK का घोषणापत्र में CAA को वापस लेने का ऐलान, बीजेपी है सहयोगी

- Advertisement -
- Advertisement -

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी और डिप्टी सीएम ओ पन्नीरसेल्वम ने 14 मार्च को विधानसभा चुनाव के लिए AIADMK का चुनावी घोषणापत्र जारी किया। जिसमे विवादास्पद नागरिकता कानून को तमिलनाडु में लागू न करने का वादा किया गया है। उल्लेखनीय है कि तमिलनाडु में पार्टी का गठबंधन केंद्र में सत्ताधारी बीजेपी के साथ है।

अपने चुनाव घोषणापत्र में अन्नाद्रमुक ने स्पष्ट रूप से लिखा है कि वह केंद्र सरकार पर इस बात के लिए दवाब बनाएगी कि वह नागरिकता संशोधन कानून को लागू करने से पीछे हटे। नागरिकता संशोधन कानून और एआईएडीएमके के घोषणापत्र में लिखी बातों का जवाब देते हुए पलानी स्वामी ने कहा कि अगर राज्य की जनता पार्टी को दोबारा सत्ता में लाती है तो पार्टी केंद्र सरकार पर इसे वापस लेने के लिए दबाव बनाएगी।

केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने केंद्र की बीजेपी सरकार की तरफ से AIADMK की इस मांग पर अपनी बात रखी है। वीके सिंह ने कहा, “एक बार AIADMK हमारे साथ बैठेगी तो हम पता लगा लेंगे कि वो क्या सोच रहे हैं। एक बार सही से व्याख्या हो जाएगी तो चीजें ठीक हो जाएंगी।”

वहीँ तमिलनाडु में बीजेपी के आईटी विंग के अध्यक्ष सीटीआर निर्मल कुमार ने कहा कि AIADMK को इस मुद्दे को दोबारा नहीं उठाना चाहिए। कुमार ने कहा, “इस मामले पर केंद्र का स्टैंड जानने के बाद AIADMK को इस मुद्दे को नहीं उठाना चाहिए। ये हमारे लिए उलझन पैदा करेगा।”

इससे पहले कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा था कि असम में विधानसभा चुनाव से पहले विवादास्पद नागरिकता कानून के बारे में बात करने की भाजपा में हिम्मत नहीं है। प्रियंका ने कहा, ‘वे पूरे देश में सीएए के बारे में बात करते हैं, लेकिन जब वे असम आते हैं, तो वे इसके बारे में बात करने का साहस नहीं करते हैं।’

उन्होंने कहा है कि जब हमारी पार्टी सत्ता में आएगी तो यह सुनिश्चित करने के लिए एक कानून बनाया जाएगा कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को यहां लागू नहीं किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles