लोकपाल को लेकर यूपए सरकार को हिला देने वाले सामजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने एक बार फिर से आंदोलन की तैयारी कर ली है. इस बार उनके निशाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार है.

अन्ना ने अभी से ही मोदी सरकार के खिलाफ मौर्चा खोल दिया. उन्होंने कहा कि जो सरकार 15 लाख रुपये खाते में डालने की बात करती थी आज तक 15 रुपये नहीं दे पाई. उन्होंने पीएम मोदी को निशाने पर लेते हुए कहा कि वे भ्रष्टाचार मुक्त भारत की बात करते थे, मगर अब एक रिपोर्ट कहती है कि एशिया में भारत भ्रष्टाचार में नंबर वन है.

उन्होंने किसानों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि किसानों को नंगा करके पीटा जा रहा है. उन्होंने हाल ही में मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ के हादसें का भी हवाल दिया. उन्होंने पीएम मोदी को संबोधित करते हुए कहा कि सिर्फ मन की बात करने से कुछ नहीं होगा. कुछ करने के लिए मन का साफ होना भी जरूरी है.

अन्ना ने आगे कहा कि मोदी ने बड़े-बड़े वादे किए. उन्होंने कहा कि विदेश के बैंकों में जमा काला धन वापस भारत में लाएंगे और हर आदमी के बैंक एकाउंट में 15-15 लाख रुपये जमा कर देंगे. लोगों को भी लगा कि सच में हमें इतना पैसा मिलने वाला है. इसी कारण बीजेपी तथा मोदी सरकार सत्ता में आ गई. आज सत्ता संभाले साढ़े तीन साल हो गए, 15 लाख छोड़ो, 15 रुपये भी जमा नहीं हुए. लोग इंतजार करते रह गए.

उन्होंने अपने आंदोलन के बारें में कहा कि हमारी पुरानी मांगें तो रहेंगी, लोकपाल का मुद्दा भी रहेगा. साथ ही साथ किसानों का मुद्दा होगा. किसानों को उनके खर्च का डेढ गुना दाम मिलना चहिए. यह हमारी प्रमुख मांग होगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?