sanatan 640x362

स्वतंत्रता दिवस के ठीक पहले महाराष्ट्र एटीएस ने मुंबई के नालासोपारा इलाके से बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया है। यह विस्फोटक सनातन संस्थान कार्यकर्ता के घर से बरामद हुआ है। बरामद विस्फोटक आरडीएक्स है। माना जा रहा है किसी बड़े हमले को अंजाम देने की तैयारी की जा रही थी।

ATS की इस कार्रवाई पर मीडिया का एक बार फिर से दोगलाचरित्र देखने को मिल रहा है। जिस पर न्यूज़ एंकर साक्षी जोशी ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि सनातन संस्था में 8 बम मिले। वैभव नाम के शख़्स को गिरफ़्तार किया गया है।अभी अगर किसी वसीम के यहाँ से मिले होते तो उसे आरोपी नहीं आतंकी लिख दिया जाता। इसलिए आतंकवाद को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए। हाँ धर्म के नाम पर आतंकी बनाने का काम जरूर किया जा रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि संस्था के कार्यकर्ता के घर और दुकान से मिला है बम, पालघर की सनातन संस्था से डेटोनेटर, 8 देसी बम मिले,आरोपी वैभव की दुकान से बम बनाने की सामग्री मिली, एटीएस पिछले कई दिन से वैभव को ट्रैक कर रही थी। हालाँकि सनातन संस्था अब उससे पल्ला झाड़ रही है।

बता दें सनातन संस्थान की स्थापना 1999 में जयंत बालाजी अठावले ने की थी। सनातन संस्थान से जुड़े लोगों को चार जगहों- वाशी, ठाणे, पनवेल (सभी 2007 में हुए) और गोवा (2009 में) धमाकों, साल 2013 में नरेंद्र दाभोलकर की हत्या और 2015 में गोविंद पनसारे औप एमएम कलबुर्गी की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें