amuu

देश की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी अलीगढ मुस्लिम विश्विद्यालय इन दिनों राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है. बीते कई दिनों से यूनिवर्सिटी दक्षिणपंथियों के निशाने पर है. बुधवार शाम को  हिन्दुत्वादी गुंडों यूनिवर्सिटी के परिसर में हथियारों के साथ घुसकर जमकर हंगामा किया.

ये हंगामा ऐसे समय में किया गया जब यूनिवर्सिटी की और से आज यानी 2 मई को हामिद अंसारी को आजीवन मानद सदस्यता दी जानी है. एएमयू छात्रसंघ यूनियन का कहना है कि भगवा आतंकी युवा वाहिनी के सदस्यों ने हामिद अंसारी पर हमला करने की कोशिश में थे.

छात्रसंघ यूनियन ने कहा कि अंसारी की गाड़ी एएमयू में पहुंचते ही लगभग 20 बाइकों पर सवार भगवाधारियों ने पिस्टल व लाठी-डंडों से हमला किया. इस दौरान मुख्य द्वार पर रोकते समय उनकी सुरक्षाकर्मियों से झड़प भी हुई. जिसमे यूनिवर्सिटी का एक सुरक्षाकर्मी और एक छात्र हमले में घायल हुआ.

छात्रसंघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मोहम्मद फहद व उपाध्यक्ष सज्जाद सुभान रॉथर ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कहा है कि बॉबे सैयद पर हुए विवाद के बाद छात्र व कुछ पूर्व छात्र छात्रसंघ की अगुआई में पुलिस स्टेशन पर तहरीर देने पहुंचे थे.

छात्र सासद सतीश गौतम पर आरोप लगाते हुए एफआइआर की माग कर रहे थे, लेकिन पुलिस रिपोर्ट दर्ज नही कर रही थी. विरोध करने पर पुलिस ने आसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया. इसमें अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मोहम्मद फहद, पूर्व उपाध्यक्ष माज़ीन हसन, इमरान गाजी, पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन, नबील उस्मानी समेत तमाम छात्र घायल हो गए. उनका जिला अस्पताल और जेएन मेडिकल कॉलेज में इलाज कराया गया.

छात्र नेताओं ने कहा कि आरएसएस, उसके घटक तथा अन्य कट्टरपंथी हिंदू संगठनों की नज़र में एएमयू हमेशा से काटा रहा है. ये संगठन किसी न किसी तरीके से उसे बदनाम करने की कोशिश में लगे रहते हैं. शासन व प्रशासन उनकी मदद करता रहा है. ये बात पिछले कुछ दिनों में और अच्छे से उभरकर सामने आई है. आज ¨हदू युवा वाहिनी के सदस्य अपने झूठे षड्यंत्रों की दाल न गलने पर तुच्छता के निम्नतम दर्जे पर आकर आतंकवादी कदम उठा बैठे. उन्होंने हथियारों का प्रयोग भी किया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?