साल 2002 में गुजरात के नरोदा गाम दंगे के मामले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आज अहमदाबाद की स्पेशल एसआईटी कोर्ट पहुंच कर गवाही दी. इस दौरान उन्होंने मुख्य आरोपी बीजेपी नेता माया कोडनानी का बचाव किया.

ANI के मुताबिक-  अमित शाह ने कोर्ट को बताया कि माया कोडनानी उस दिन राज्य विधानसभा में 8.30 बजे मौजूद थी. जहां दंगे हुए नरोदा गाम में वह नहीं थीं. शाह ने कहा कि इसके बाद 9.30 से 9.45 मैं माया कोडनानी से सिविल अस्पताल में था.

उन्होने कहा, मैं लोगों से घिरा हुआ था जब मैंने अस्पताल छोड़ा. माया कोडनानी और मुझे अपनी-अपनी कारों तक पुलिस जीप से ले जाया गया. उन्होंने बताया कि उस दिन गोधरा ट्रेन कांड में मारे गए लोगों को विधानसभा में श्रद्धांजलि दी गई थी.

ध्यान रहे नरोदा गाम दंगे के दौरान 97 लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी, करीब 10 घंटों तक चले इस नरसंहार में उग्र भीड़ ने लूटपाट, चाकूबाजी, बलात्कार, हत्या और लोगों को जिंदा जलाने जैसे घिनौने कृत्य किए थे. नरोदा का मामला 2002 के गुजरात दंगों का सबसे बड़ा कत्लेआम था, जिसमें सबसे अधिक मुस्लिमों की मौत हुई थी.

इस मामले में पहले ही कोडनानी को आजीवन कारावास की सज़ा सुना चुकी है. माया कोडनानी भाजपा से तीन बार की महिला विधायक हैं और नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री थी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?