Friday, September 24, 2021

 

 

 

चुनावों में धर्म के इस्तेमाल की इजाजत नहीं, धर्म के नाम पर नहीं मांगे जा सकते वोट: सुप्रीम कोर्ट

- Advertisement -
- Advertisement -

supremecourt-keeb-621x414livemint

सुप्रीम कोर्ट ने 20 साल पुराने हिंदुत्व जजमेंट मामले में टिपण्णी करते हुए चुनावों में धर्म के इस्तेमाल की इजाजत देने से इंकार करते हुए कहा कि कोई धर्म के नाम पर वोट नहीं मांग सकता और धर्म को राजनैतिक प्रक्रिया से दूर रखा जाना चाहिए.

कोर्ट ने कहा कि चुनावी प्रक्रिया धर्मनिरपेक्ष होती है और उसमें किसी धर्म को नहीं मिलाया जा सकता. चुनाव और धर्म दो अलग-अलग चीजें है उनको साथ-साथ नहीं जोड़ा जा सकता. साथ ही कोर्ट ने सवाल करते हुए पूछा कि अगर उम्मीदवार और वोटर एक ही धर्म के हों और उस आधार पर वोट मांगा जाए तो क्या वो गलत है ? कोर्ट ने ये भी पूछा कि अगर उम्मीदवार और वोटर अलग-अलग धर्म के हों और उम्मीदवार इस आधार पर वोट मांगे कि वोटर्स के कौम की रहनुमाई ठीक से नहीं हो रही तो क्या वो सही है ?

नारायण सिंह बनाम सुंदरलाल पटवा के मामले पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस की बेच ने कहा कि 1995 के जजमेंट को बने रहने देना चाहिए. चीफ जस्टिस ने कहा कि पटवा का केस ही देखें तो वे जैन समुदाय से हैं और कोई उनके लिए कहे कि वे जैन होने के बावजूद राम मंदिर बनाने में मदद करेंगे तो यह प्रत्याशी नहीं बल्कि धर्म के आधार पर वोट मांगना होगा.

कोर्ट ने इस मामलें में केद्र सरकार को फिलहाल पार्टी बनाने से इनकार करते हुए कहा कि यह एक चुनाव याचिका का मामला है, जो कि सीधे चुनाव आयोग से जुड़ा है. इसमें केंद्र सरकार को पार्टी नहीं बनाया जा सकता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles