मुंबई | बीजेपी और भगवा रंग का सम्बन्ध बहुत पुराना है. हिंदुत्व के एजेंडे पर अपनी राजनितिक विरासत खड़ी करने वाली बीजेपी, अभी भी इस छोले से बाहर नही निकल पायी है. इसका सबसे बड़ा कारण है राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ. बीजेपी को संघ का ही राजनितिक रूप माना जाता है. इसलिए बीजेपी कभी भी हिंदुत्व के एजेंडे से समझौता करना नही चाहती.

अक्सर विपक्षी दल बीजेपी पर आरोप लगाते है की ये लोग आरएसएस के एजेंडे पर चलकर पुरे देश को भगवा रंग में रंगना चाहते है और इसी नीति पर आगे बढ़ रहे है. हालाँकि अभी तक न ही केंद्र की मोदी सरकार ने और न ही बाकी राज्यों की बीजेपी सरकार ने इस तरफ का प्रयास किया. लेकिन महाराष्ट्र की फडनविस् सरकार फ़िलहाल इसी राह पर चलती दिख रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालाँकि फडनविस् सरकार पुरे महाराष्ट्र को तो भगवा रंग में नही रंग रही लेकिन खबर है की सरकार ने वेब अधारित टैक्सियो को भगवा रंग में रंगने का आदेश दिया है. मिली जानकारी के अनुसार सरकार ने हाल ही में एक नए टैक्सी रूल की घोषणा की है. इसके अंतर्गत वेब बेस्ड सभी टैक्सियो को एक ही रंग में रंगना होगा. सरकार ने वो रंग भगवा तय किया है. इसके अलावा तय लिमिट से ज्यादा चार्ज वसूलने पर भी रोक लगाने के आदेश दिए है.

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवारक राउते ने शनिवार को महाराष्ट्र स्मार्ट टैक्सी रूल्स 2017 की घोषणा की. दिवारक ने बताया की हमने रिटायर्ड आईएएस बीसी खतुआ के निर्देशन में एक कमिटी गठित की है जो टैक्सी के न्यूनतम और अधिकतम किराए की समीक्षा करके हमें अपनी रिपोर्ट सौपेंगे. इसके अलावा सभी टैक्सी को एक ही रंग में रंगने का फैसला किया है. यही नही सभी टैक्सी के ड्राइवर्स को 24 घंटे कण्ट्रोल रूम से संपर्क में रहने का भी निर्देश दिया गया है.

Loading...