Tuesday, June 28, 2022

अलीगढ़ फर्जी मुठभेड़: JNU-AMU के छात्रों पर मुकदमा, उमर खालिद पर भी आरोप

- Advertisement -

अलीगढ़ में कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के दो पूर्व छात्र नेताओं समेत कई छात्रों पर  हरदुआगंज मुठभेड़ में मारे गए बदमाशों की मां को अगवा करने का आरोप लगा है। पुलिस ने इस मामले में अपहरण का मामला दर्ज किया है।

थाना प्रभारी परवेश राणा ने बताया कि मामला गुरुवार को अतरौली थाने में दर्ज किया गया। तहरीर बजरंग दल के सचिव राम कुमार आर्य और मुस्तकीम की पत्नी हिना की ओर से दी गई थी। कार्यकर्ताओं के समूह में जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद भी शामिल हैं लेकिन शिकायत में उनको नामजद नहीं किया गया है। राणा ने बताया कि शिकायत में “यूनाइटेड अगेन्स्ट हेट” फोरम के कार्यकर्ताओं के नाम हैं जिसमें एएमयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष मसकूर उस्मानी और फैजुल हसन भी शामिल हैं।

गुरुवार (26 सितंबर) को जेएनयू-एएमयू का प्रतिनिधिमंडल मुठभेड़ में मारे गए नौशाद-मुस्तकीम के बैसपाड़ा स्थित घर परिजन से मिलने गया था। प्रतिनिधिमंडल में खालिद के साथ एएमयू के निवर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी और पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन व कुछ और छात्र थे। बदमाशों के परिजन से मिलने के बाद इनका प्रतिनिधिमंडल कोतवाली पहुंचा, जहां पुलिस के साथ इन छात्रों की कहासुनी हुई।

इस दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ता पहुंच गए। उन्होंने इस प्रतिनिधिमंडल का विरोध जताते हुए जोर-जोर के नारे लगाना शुरू कर दिया। बजरंग दल वालों ने बाद में एएमयू-जेएनयू छात्रों के खिलाफ तहरीर देते हुए कार्रवाई की मांग की। मामला गरमाते देख पुलिस भी सकते में आ गई, लिहाजा उसने किसी तरह बजरंग दल वालों को समझाया, जबकि जेएनयू-एएमयू वाले वहां से निकल लिए।

एएमयू छात्रसंघ के निवर्तमान अध्यक्ष का कहना है कि  “हम लोग मुस्तकीम-नौशाद के यहां गए थे। फिर पुलिस के पास गए, जहां उन्होंने भगवाधारी गुंडे बुलाए। पर हम राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में शिकायत देंगे।” एसपी देहात मणिलाल पाटीदार ने बताया, “हिना का आरोप है कि एएमयू छात्र दोपहर को आए और सास को जबरन साथ ले गए। तहरीर पर छात्रनेता मशकूर, फैजुल समेत कई अज्ञात पर मुकदमा दर्ज हुआ है। जांच जारी है।”

वहीं, एसएसपी अजय कुमार साहनी ने स्थानीय मीडिया को बताया कि नौशाद-मुस्तकीम के परिजन के मकान मालिक ने खालिद व अन्य छात्र नेताओं को आने से मना किया। पर वे जबरन घुस आए थे। वे इसके बाद थाने आए, जहां उन्होंने विवाद किया। लापता दोनों महिलाएं उनके साथ तो नहीं गईं? हम इस बात की जांच कर रहे हैं। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles