Tuesday, June 22, 2021

 

 

 

पैगंबर ए इस्लाम और कुरान की तौहीन हरगिज बर्दाश्त नहीं: अल्हाज सईद नूरी

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: कुरेश नगर स्थित दारुल उलूम अहले सुन्नत कादरिया गरीब नवाज में तकमील हिफ़्ज़ क़ुरान के मौके पर रज़ा एकेडमी अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने कहा कि मुसलमान पैगंबर ए इस्लाम और कुरान मजीद की तौहीन हरगिज बर्दाश्त नही करेंगे।

इस मौके पर उन्होने ‘तहफ्फुज ए नामुस ए रिसालात बोर्ड’ के बारे में संक्षेप में बताते हुए कहा कि गुस्ताख ए रसूल व बुजुर्गानेदीन को कड़ी सजा दिलाने के लिए बोर्ड का गठन किया गया है। उन्होंने उपस्थित लोगों से बोर्ड की सदस्यता ग्रहण करने की अपील की।

मौलाना एजाज उल कमर अलीमी साहब ने कहा आज कुछ जालिम लोग इस्लाम पर हमला करने की नापाक साजिशें कर रहे है। जिसे हम हरगिज बर्दाश्त नही करेंगे। उन्होंने कहा कि सय्यद मोइनुद्दीन अशरफ अशरफी साहब और सईद नूरी साहब की सरपरस्ती ऐसे लोगों को उनके असल मुकाम तक पहुंचाने में मददगार है।

मौलाना जफरुद्दीन रज़वी ने कहा कि कुरान आसमानी किताब है। जिसमे न तो आज तक कोई तब्दीली हुई और कयामत तक कोई तब्दीली होगी। वसीम जैसे हजारों लानती इस दुनिया में आये और चले गए। लेकिन क़ुरान का एक नुक़्ता नहीं बदला।

मौलाना मुहम्मद उमर निज़ामी ने खानकाहों से नामुस ए रिसालत के लिए आगे आने की गुजारिश करते हुए कहा कि सज्जजादानशीं अपने नजराना का एक चौथाई तहफ्फुज नामुस ए रिसालात के लिए दें। जिससे रज़ा एकेडमी की इस मुहिम को पूरे देश में फैलाया जा सकें। उन्होंने रमजान में अपने सदका, खैरात और जकात को मदरसे में देने की गुजारिश भी की।

बैठक में मौलाना अब्दुल मोबिन नईमी, हाफिज खुर्शीद अलीमी, मौलाना अब्दुल मतीन सुब्हानी, मौलाना गुलाम मुज्तबा सिद्दीकी, मौलाना अब्दुल अजीज, मौलाना मोहम्मद इब्राहीम, शेर अली, हाजी जहीर खान अशरफी, हाजी आरिफ, रिज़वान अहमद आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles