Tuesday, October 26, 2021

 

 

 

मदनी की भागवत से मुलाकात पर बोले दरगाह दीवान – पैगाम मिला तो खुद भी…

- Advertisement -
- Advertisement -

जमीयत उलेमा-ए-हिद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी की आरएसएस चीफ मोहन भागवत से मुलाक़ात को अजमेर स्थित विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह के दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन सकारात्मक कदम बताया है। इतना ही नहीं उन्होने ये भी कहा कि अगर आरएसएस की तरफ से उन्हे पैगाम मिला तो वह स्वयं भी भागवत से मुलाकात करेंगे।

उन्होंने कहा कि इस्लाम मोहब्बत का पैगाम देता है। इस्लाम में एक-दूसरे का सम्मान और प्यार बांटने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि यदि आरएसएस की तरफ से पैगाम मिला तो वे स्वयं मोहन भागवत से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि आरएसएस को मुस्लिमों को लेकर अपना नजरिया बदलना चाहिए। इस्लाम सबको साथ लेकर चलने की बात कहता है।

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के निर्णय का समर्थन करते हुए उन्होने कहा कि कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक पार्टियों को केवल विरोध के लिए विरोध नहीं करना चाहिए। कुछ मुद्दों पर राजनीति से अलग होकर देशहित की बात भी सोचनी चाहिए।

दरगाह दीवान ने कहा कि विरोध करने वालों को सोचना चाहिए कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के हालात लगातार सुधर रहे हैं। लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा हो रही है। केंद्र सरकार के इस निर्णय से जम्मू-कश्मीर में विकास होगा, युवाओं को शिक्षा के साथ ही रोजगार के अवसर पहले से अधिक मिलेंगे।

बता दें कि मदनी की भागवत से मुलाकात दिल्ली के झंडेवालान स्थित संघ कार्यालय ‘केशव कुंज’ में हुई थी। इस दौरान मौलाना अरशद मदनी ने संघ प्रमुख भागवत से मौजूदा हालत पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि संघ मुस्लिमों को लेकर अपना नजरिया बदले और सिर्फ बयानबाजी नहीं बल्कि जमीन पर उतरकर काम करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles