अजमेर | योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद पुरे देश में उनको लेकर चर्चाये हो रही है. उन्होंने पद सँभालते ही अवैध बूचडखानो पर कार्यवाही करने का निर्देश दिया है. योगी के आदेश का असर इतना हुआ की प्रदेश के लगभग सभी अवैध बूचडखानो पर ताले लटक चुके है. हालाँकि सरकार की कार्यवाही के खिलाफ मीट व्यापारी हड़ताल पर चले गए थे लेकिन योगी से मिलने के बाद उन्होंने अपनी हड़ताल वापिस ले ली.

उत्तर प्रदेश में बूचडखानो पर हो रही कार्यवाही का असर बाकी राज्यों पर भी पड़ने लगा है .अब कुछ और राज्यों से भी इनके खिलाफ कार्यवाही की मांग उठने लगी है. हालाँकि कुछ राज्यों ने कार्यवाही शुरू भी कर दी है. अब इस मामले पर राजनितिक टिप्पणियो के अलावा कुछ सामाजिक प्रतिक्रियाए भी देखने को मिल रही है. अजमेर दरगाह के दीवान ने सभी मुसलमानों से बीफ छोड़ने का आग्रह किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अजमेर की ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के वंशज और प्रमुख दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने उर्स के समापन की पूर्व संध्या पर एलान किया की वो कभी भी बीफ नही खायेगे. उन्होंने मुस्लिम समुदाय से भी आग्रह किया की वो बीफ खाना छोड़ दे. इसके अलावा उन्होंने गाय को राष्ट्रिय पशु घोषित करने की मांग करते हुए गौहत्या पर उम्र कैद की सजा का प्रावधान करने की भी मांग की.

उन्होंने कहा की पशुओ का क़त्ल नही होना चाहिए. यही नही पुरे देश में गौहत्या पर प्रतिबंध लगना चाहिए और इनके मॉस की बिक्री पर व्यापक रोक लगानी चाहिए. आबेदीन अली ने मुस्लिमो से गाय के वध से दूर रहने की अपील करते हुए कहा की आपको बीफ का सेवन त्यागने की पहल कर सदभावना की मिसाल देनी चाहिए. और यह सिर्फ सरकार का नही बल्कि हर धर्म के लोगो का कर्तव्य है की सभी तरह के पशु पक्षियों की जान माल की रक्षा करे.

Loading...