जयपुर की विशेष अदालत द्वारा 11 अक्टूबर 2007 को विश्व प्रसिद्ध हजरत ख्वाजा गरीब नवाज़ की दरगाह में हुए बम विस्फोट मामलें में साध्वी प्रज्ञा और इंद्रेश कुमार को लेकर एनआईए द्वारा तीन अप्रैल को पेश की गई अंतिम रिपोर्ट (क्लोजर रिपोर्ट) पर फैसला 11 मई को आएगा.

दरअसल इस मामलें में सुनवाई आज होनी थी लेकिन एनआइए की विशेष कोर्ट के जज दिनेश गुप्ता के अवकाश पर होने के कारण सुनवाई नहीं हो सकी. वहीँ अजमेर दरगाह के सैयद सरवर चिश्ती भी सोमवार को कोर्ट में पेश नहीं हुए. कोर्ट उनका भी पक्ष जानना चाहती हैं. इसके लिए अदालत ने पिछली सुनवाई पर चिश्ती को व्यक्तिगत रूप से कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा था. अंजुमन सैयद जादगान के पूर्व सचिव व खादिम सैयद सरवर चिश्ती ही वह शख्स हैं जिन्होंने 2007 में दरगाह में हुए बम ब्लास्ट मामले की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गौरतलब रहें कि अजमेर बम ब्लास्ट मामले में इन्द्रेश कुमार पर आरोप हैं कि उन्होंने जयपुर स्थित गुजराती समाज के गेस्ट हाउस में 31 अक्टूबर 2005 को हिंदूवादी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर हिंदू धर्मस्थलों पर हुए हमले के तहत दरगाह विस्फोट करने को कहा था.

हालांकि एनआईए ने पूर्व में भी इंद्रेश, साध्वी प्रज्ञा सहित चार जनों को लेकर क्लोजर रिपोर्ट पेश की थी, लेकिन अदालत ने इस रिपोर्ट को विध सम्मत नहीं माना.

Loading...