नई दिल्ली | भारत सरकार एयर इंडिया एयरलाइन्स को लेकर चाहे कितने भी दावे करे लेकिन एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार यह उपक्रम दुनिया की तीसरी सबसे ख़राब एयरलाइन में आता है. यात्रियों की कमी से झूझ रही एयर इंडिया को यह रिपोर्ट और नुक्सान पहुंचा सकती है. हालांकि एयर इंडिया ने इस रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए जांच कराने की बात कही.

एविएशन इनसाइट कंपनी फ्लाइटस्टेटस हर साल इस तरह की रिपोर्ट जारी करती है. फ्लाइटस्टेटस एयरलाइन्स में साफ़ सफाई, यात्रियों के साथ उनका व्यवहार, समय पर परिचालन और यात्रियों को दी जाने वाली सुख सुविधा को ध्यान में रखकर उनकी रेटिंग करती है. फ्लाइटस्टेटस की रिपोर्ट में एयर इंडिया को दुनिया की तीसरी सबसे खराब एयरलाइन का दर्जा दिया गया.

फ्लाइटस्टेटस ने करीब 500 माध्यमो से डाटा इकठ्ठा कर यह रेटिंग तैयार की है. ऐसा नही है की रिपोर्ट में केवल ख़राब एयरलाइन्स के बार में ही बताया जाता है. इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया की एशिया प्रशांत में समय से चलने वाली टॉप 10 एयरलाइन कौन सी है. इसमें भारत की घरेलु एयरलाइन्स जेट एयरवेज़ और इंडिगो को शामिल किया गया है. जेट एयरवेज़ को सातवे और इंडिगो को 10वे नम्बर पर रखा गया है.

फ्लाइटस्टेटस की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए एयर इंडिया की तरफ से कहा गया की हम फ्लाइटस्टेटस की रिपोर्ट से असहमत है. उन्होंने हमें जो दर्जा दिया है वो सही नही है. इसलिए हमने रिपोर्ट की जांच एयरइंडिया मैनेजमेंट से कराने का फैसला किया है. रिपोर्ट में दुनिया की सबसे ख़राब एयरलाइन का दर्जा इल अल एयरलाइंस को दिया गया है जबकि दुसरे नम्बर पर आइसलैंड एयरलाइंस को रखा गया है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें