देश की दो सबसे बड़ी कंपनियों को भारत सरकार ने बेचने का फैसला किया है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि पेट्रोलियम कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और विमानन कंपनी एयर इंडिया की बिक्री प्रक्रिया अगले साल मार्च तक पूरी हो जाएगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में 1 लाख करोड़ रुपए जुटाने की सरकार की योजना में दोनों कंपनियों की बिक्री अहम रहेगी। उन्होने कहा कि एयर इंडिया की सेल को लेकर निवेशकों ने काफी रुचि दिखाई है। एक साल पहले घाटे में जा रही एयरलाइन की बिक्री को इसलिए रोकना पड़ा था, क्योंकि निवेशकों की तरफ से अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला था। इस साल टैक्स कलेक्शन के दबाव में रहने के चलते सरकार विनिवेश से होने वाली प्राप्तियों पर निर्भर कर रही है।

वहीं भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड की बात करें तो सचिवों के एक समूह ने अक्टूबर में सरकार की पूरी 53.29 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री के लिए सहमति व्यक्त की थी। भारत पेट्रोलियम का बाजार पूंजीकरण लगभग 1.02 लाख करोड़ रुपए है। इसकी 53 फीसदी हिस्सेदारी की बिक्री के जरिये सरकार लगभग 65,000 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद कर रही है।

आगे इंटरव्यू में निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकरा आर्थिक सुस्ती से निपटने की हर संभव कोशिश कर रही है। कई क्षेत्रों में बदलाव आ रहा है और सुस्ती बाहर निकल रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कई उद्योगों के मालिकों से उननी बैलेंस शीट में सुधार करने को कहा गया है। इसके अलावा उनमें से कई नए निवेश की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोगों में बदलाव आया है क्योंकि त्योहारों के दौरान बैंकों ने 1.8 लाख करोड़ का लोन बांटा है।

सीतारमन ने कहा, ‘अगर उपभोक्ताओं की आर्थिक स्थिति पटरी पर न होती तो वे बैंकों से लोन लेने के बारे में विचार ही क्यों करते? और ऐसा पूरे देश में है।’

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन