2016 8$largeimg105 aug 2016 181428527

2016 8$largeimg105 aug 2016 181428527

अहमदाबाद | शुक्रवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल पर संगीन आरोप लगा प्रदेश की राजनीती में हलचल मचा दी. रुपानी ने आरोप लगाया की बुधवार को सूरत से पकडे गए दो संदिग्ध ISIS आतंकियों में से एक, भरूच के उस अस्पताल में काम करता था जिसके ट्रस्टी अहमद पटेल रहे है. रुपानी ने आरोपों पर अहमद पटेल से स्पष्टीकरण देने और राज्यसभा से इस्तीफा देने की मांग की.

हालाँकि अहमद पटेल ने सभी आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा की बीजेपी और मुख्यमंत्री विजय रुपानी के लगाये गए सभी आरोपों आधारहीन और गलत है. उन्होंने बीजेपी से गुजरात चुनाव को देखते हुए राष्ट्रिय सुरक्षा के मुद्दे का राजनीतिकरण नही करने का भी आग्रह किया. हालाँकि रुपानी के लगाए गए आरोप संगीन थे इसलिए अस्पताल प्रशासन ने भी मामले में अपना बयान जारी किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अस्पताल प्रशासन ने अपने बयान में सभी आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा की इस मामले में अहमद पटेल या उनके परिवार के किसी भी सदस्य का कोई लेना देना नही है. हालाँकि जब भी अस्पताल प्रबंधन को उनकी मदद की जरुरत पड़ती है तो वो एक सांसद के तौर पर अस्पताल की मदद करते है. उधर न्यूज़ पोर्टल जनता का रिपोर्टर ने भी मामले की जाँच कर खुलासा करने का दावा किया है.

जनता का रिपोर्टर के मुताबिक उन्होंने कुछ तथ्यों की पड़ताल करने के बाद कुछ पत्र हासिल किये जिससे यह स्पष्ट हो गया की विजय रुपानी ने अहमद पटेल के ऊपर झूठे आरोप लगाये. मिले पत्रो के अनुसार अहमद पटेल ने 2013 में ही अस्पताल के ट्रस्टी के पद से इस्तीफा दे दिया था. इससे साफ़ होता है की अहमद पटेल का चार साल से अस्पताल प्रबंधन से कोई लेना देना नही है. कुछ इस तरह की दलील कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी दी है.

Loading...