श्रीनगर | करीब छह महीने की शांति के बाद घाटी में एक बार फिर गोलिया और विरोध प्रदर्शन का शोर सुनाई देने लगा है. रविवार को चार आतंकियों और एक आम नागरिक की मौत के बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियो की बीच हिंसक झड़प हुई जिसमे एक व्यक्ति की मौत हो गयी. सुरक्षा बलों की कार्यवाही में आम नागरिको के मारे जाने के विरोध में अलगाववादियों ने सोमवार को बंद का ऐलान किया है.

रविवार को ख़ुफ़िया विभाग ने सुरक्षा बलों को सूचना दी की कुलगाम जिले के फ्रिसल गाँव के एक घर में कुछ आतंकी छिपे हुए है. सूचना पर सुरक्षा बलों ने घर पर हमला कर दिया. जवाबी कार्यवाही में आतंकियों ने भी सुरक्षाबलो के जवानों पर फायरिंग की. करीब 10 घंटे की मुठभेड़ के बाद चार आतंकियों को मार गिराया गया. लेकिन इस कार्यवाही में दो जवान भी शहीद हो गए.

वही जिस घर में आतंकी छिपे हुए थे , उस घर के मालिक के बेटे की भी गोली लगने से मौत हो गयी. सेना की कार्यवाही से भड़के स्थानीय लोगो ने सुरक्षा बलों के खिलाफ प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. स्थिति बिगडती देख सुरक्षाबलो को प्रदर्शनकारियो पर गोली चलानी पड़ी जिसमे एक और स्थानीय नागरिक की मौत हो गयी. वही 18 लोग घायल भी बताये जा रहे है. सभी को श्रीनगर के अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

सुरक्षा बलों की और से जारी बयान में कहा गया की कार्यवाही के दौरान मृतक की और से जवानों पर पथराव किया गया. इसके अलावा आतंकियों पर कार्यवाही के दौरान भी बाधा पहुँचाने की कोशिश की गयी. बताते चले की 9 जुलाई को मुठभेड़ में मारा गया हिजबुल कमांडर बुरहान वाणी इस इलाके से ताल्लुक रखता था. मारे गए आतंकियों की पहचान लस्कर ए तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों के तौर पर हुई है. उधर सुरक्षाबलो की कार्यवाही के खिलाफ अलगावादियों ने आज बंद का एलान किया गया है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें