afroz

afroz

स्‍वच्‍छता अभियान में साथ देने वाले पर्यावरणविद अफरोज शाह की कभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद तारीफ़ की थी. लेकिन आज इसी काम के चलते अफरोज को गुंडागर्दी का सामना करना पड़ रहा है. मुंबई के सबसे गंदे वर्सोवा समुद्र तट पर 2015 में सफाई आंदोलन की शुरुआत करने वाले अफरोज शाह को अपना अभियान रोकने की धमकी दी गई. साथ ही इस मामले में उनसे मारपीट भी की गई.

अपने अभियान को खत्म करने की जानकारी देते हुए अफरोज ने 18 नवंबर को ट्वीट कर कहा, ”कुछ गुंडों ने उनके वॉलन्टियर्स के साथ कूड़ा उठाने पर अभद्रता की. इसके अलावा प्रशासन की सुस्ती और सफाई होने के बाद कूड़े को न उठवाने और गालियां जो हमें मिल रही हैं उसकी वजह से दुनिया का सबसे समुद्र तट सफाई का मूवमेंट खत्म किया गया. मैंने अपना बेहतर देने का प्रयास किया. मैं विफल रहा. मुझे माफ करना मेरे समुद्र और मेरे देश.”

अफरोज ने बताया कि लगभग 109 हफ्तों से अपने कुछ सहयोगियों के साथ मिलकर तट पर फैले कूड़े की सफाई कर रहा था.  उन्होंने कहा, “मैं जमीनी स्तर पर बहुत मेहनत से काम कर रहा था लेकिन मुझे पता चल गया कि लोगों की मानसिकता नहीं बदल रही थी. उन्होंने कहा हार स्वीकार कर लेना सकारात्मक संकेत है. ये आपको सोचने पर मजबूर करती है कि कैसे चीजें दोबारा चीजें बदली जाएं. हम इससे सीखेंगे और भविष्य में कुछ अच्छा करेंगे.”

ध्यान रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो संबोधन ‘मन की बात’ में पर्यावरणविद् अफरोज शाह के प्रयासों की प्रशंसा की थी. पीएम ने कहा था, मैं मुंबई के वर्सोवा समुद्र तट को साफ करने के प्रयासों के लिए अफरोज शाह और उनकी पूरी टीम को बधाई देता हूं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?