Friday, July 30, 2021

 

 

 

उत्तर प्रदेश के बाद बीजेपी शासित चार और राज्यों में बूचडखानो पर शुरू हुई कार्यवाही

- Advertisement -
- Advertisement -

जयपुर | उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही अवैध बूचडखानो के खिलाफ एक मुहीम छेड़ दी गयी. प्रदेश के सभी अवैध बूचडखानो को बंद कराने के लिए पुलिस और जिला प्रशासन लगातार कार्यवाही कर रहा है. अभी तक 300 से ज्यादा बूचडखाने बंद कराये जा चुके है. उत्तर प्रदेश की देखा देखी अब कुछ और राज्यों ने अवैध बूचडखानो के खिलाफ कार्यवाही करने के आदेश दिए है.

झारखण्ड में मुख्यमंत्री पहले ही 72 घंटे के अन्दर सभी अवैध बूचडखाने बंद करने के आदेश दे चुके है. झारखण्ड के बाद चार और बीजेपी शासित राज्यों ने बूचडखानो के खिलाफ कार्यवाही की है. मंगल्वाव्र को राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में प्रशासन ने कई बूचडखानो पर कार्यवाही करते हुए उन्हें बंद करा दिया. हरिद्वार में तीन , इंदौर में एक और रायपुर में 11 बूचडखानो को बंद कराया गया.

उधर राजस्थान की राजधानी जयपुर में सभी अवैध बूचडखाने बंद करने के निर्देश दिए गए है. जयपुर नगर निगम ने अप्रैल से सभी अवैध बूचडखानो और दुकानों पर कार्यवाही करने की घोषणा की है. जयपुर में करीब 4000 अवैध दुकाने है जिनमे से केवल 950 दुकानों के पास लाइसेंस है. लेकिन इनमे से भी काफी दुकानों के लाइसेंस रिन्यू नही किये गए है. इसके पीछे निगम का तर्क है की लाइसेंस रिन्यू करने की फीस 10 रूपए से बढाकर एक हजार कर दी गया है.

इसलिए जीओ आने तक इन लाइसेंस को रिन्यू नही किया जा सकता. उधर जयपुर मीट एसोसिएशन के अध्यक्ष अब्दुल राकुफ़ खुर्शी ने बताया की हमने लाइसेंस रिन्यू होने के लिए दिए हुए है. अगर नगर निगम उनको रिन्यू नही कर रहा है तो इसमें हमारी कोई गलती नही है. ऐसे में अगर नगर निगम कोई कार्यवाही करता है तो हम उसका विरोध करेंगे.

उत्तराखंड के हरिद्वार में मंगलवार को 3 अवैध दुकानों का बंद करा दिया गया. प्रशासन का कहना है की नवरातो की वजह से मिली कुछ शिकायतों के आधार पर कार्यवाही की गयी. वैसे ऐसे कार्यवाही आगे भी जारी रहेगी. बगैर लाइसेंस वाली सभी दुकाने बंद की जाएगी. छत्तीसगढ़ में भी रायपुर नगर निगम ने तीन दिन के अन्दर सभी अवैध दुकानों और बूचडखानो को बंद करने के निर्देश दिए है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles