jj 620x400

jj 620x400

बशीरहाट । फ़िलहाल इस साल के कुछ दिन शेष है। यह साल कुछ कड़वी तो कुछ अच्छी यादें देकर जा रहा है। हालाँकि इस साल देश में कुल मिलाकर शांति रही लेकिन बंगाल में एक फ़ेस्बुक पोस्ट की वजह से मानवता ज़रूर शर्मसार हुई। दो नाबालिग़ दोस्तों ने फ़ेस्बुक के ज़रिए इस्लाम के प्रति कुछ आपत्तिजनक पोस्ट की जिसकी वजह से कई लोगों को अपने घरों से हाथ धोना पड़ा।

एक विशेष धर्म वर्ग के लोगों ने कई घरों को आग लगा दी जिसके प्रतिउत्तर में दूसरी तरफ़ से भी प्रतिक्रिया आयी। इसका नतीजा यह हुआ की एक 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी और काफ़ी लोग बेघर हो गए। बंगाल के बदूरिया से उठी साम्प्रदायिक तनाव की लपटो ने धीरे धीरे पुरे बशीरहाट सब डिविज़न को अपने घेरे में ले लिया। 4 जुलाई को पुलिस ने इस मामले में दो दोस्तों को गिरफ़्तार किया।

उस समय बताया गया कि दोनो दोस्त एक ही फ़ेस्बुक अकाउंट इस्तेमाल कर रहे थे। दोनो दोस्तों में झगड़ा हुआ तो दूसरे ने बदला लेने के लिए फ़ेसबुक पर आपत्तिजनक कांटेंट पोस्ट कर दिया। इसके बाद पूरे बशीरहाट इलाक़े में तनाव फैल गया। उस समय इस मामले को ख़ूब सियासी रंग भी दिया गया। भाजपा के एक नेता ने कुछ फ़र्ज़ी तस्वीरों के ज़रिए और दंगा भड़काने की कोशिश की।

फ़िलहाल 16 दिसम्बर को दोनो युवकों की ज़मानत हो गयी है। अदालत ने इसी शर्त पर दोनो को ज़मानत दी की वह अपने घर से 50 किलोमीटर दूर रहेंगे। दोनो आरोपियों की ज़मानत के बाद बशीरहाट और बदूरिया में दोबारा तनाव का माहौल है। हालाँकि एक हिंदू संगठन, हिंदू समिति ने दोनो युवकों को शरण दी है। यही संस्था इन दोनो युवकों की पढ़ाई लिखाई का ख़र्च भी उठायाएगी।

समिति के प्रमुख तपन घोष ने इस बारे में बताया कि फ़िलहाल दोनो युवक नाबालिग़ है। इनका भविष्य है, उम्मीद है कि अगले सेशन से ये दोनों फिर से स्कूल जा सकेंगे। तपन घोष ने कहा कि घटना के मुख्य आरोपी का घर जला दिया गया है और वह सदमे में है, वह अभी घर नहीं जा सकते है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?