image credit: indiatoday
image credit: indiatoday

निज़ामाबाद | मंगलवार को पूरे देश ने बड़ी धूम धाम के साथ 71 स्वतंत्रता दिवस मनाया. इस मौके पर देश के सभी निजी और सरकारी स्कूलों में झंडारोहण के साथ साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये गए. पहले से ही यह प्रथा रही है की सरकारी स्कूलों में अगर कोई मुख्य अथिति आमंत्रित नहीं किया गया तो प्रिंसिपल को ध्वजारोहण करने का अधिकार है. लेकिन तेलंगाना में ABVP और आरएसएस कार्यकर्ताओ ने एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल को झंडा फहराने से ही रोकने की कोशिश की.

मिली जानकारी के अनुसार तेलंगाना के निज़ामाबाद में एक सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल को ABVP और आरएसएस कार्यकर्ताओ ने केवल इसलिए झंडा फहराने से रोकने की कोशिश की क्योकि उन्होंने उस समय जूते पहने हुए थे. झंडारोहण के समय ABVP कार्यकर्त्ता लगातार प्रिंसिपल के खिलाफ नारेबाजी करते रहे. यही नही उन्होंने प्रिंसिपल के साथ धक्का मुक्की भी की. उधर पूरे मामले में कॉलेज प्रशासन ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है.

निज़ामाबाद के सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल मोहम्मद यकीन का आरोप है की स्वतंत्रता दिवस के मौके पर वो जैसे ही ध्वजारोहण करने के लिए उठे तो ABVP और आरएसएस कार्यकर्ताओ ने उनके खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी. बताया जा रहा है की ये लोग यकीन के जूते पहनकर ध्वजारोहण करने से नाराज थे. वो लगातार उनसे जूते उतारने की मांग कर रहे थे. जब यकीन ने ऐसा करने से मना कर दिया तो उन्होंने उनके खिलाफ नारेबाजी करते हुए धक्का मुक्की की.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस पूरी घटना की एक विडियो भी सामने आई है जिसमे यकीन बड़े शांत तरीके से लोगो को संबोधित करते हुए दिख रहे है जबकि कुछ लोग उनके खिलाफ लगातार नारेबाजी कर रहे है. विडियो में कुछ लोग यकीन को धक्का देते हुए भी दिखायी दे रहे है. यही नही कुछ लोग यकीन से जबरदस्ती वन्देमातरम भी कहलवा रहे है. बरहाल पुलिस ने कॉलेज प्रशासन की शिकायत पर कई लोग के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया कार्यवाही शुरू कर दी है.

Loading...