मुंबई | बंगलौर छेड़छड केस में लडकियों को दोषी ठहराकर लोगो के निशाने पर आये महाराष्ट्र समाजवादी प्रमुख अबू आजमी ने एक बार भीर विवादित बयान दिया है. इसके अलावा आजमी ने मीडिया पर भी सवाल उठाते हुए आरोप लगाया की टीवी न्यूज़ चैनल ने टीआरपी के चक्कर में मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया है.

अबू आजमी ने अपने ताजा बयान में कहा की मैंने कभी भी महिलाओं का अपमान नही किया. लेकिन जो लोग महिलाओं को छोटे कपडे पहनने की सलाह देते है , या उनको ऐसा करने से नही रोकते है वो लोग महिलाओ का सम्मान नही करते. मैं जानता हूँ की कुछ लोग मुझे छोटे विचारो का कहेंगे लेकिन जब तक महिलाओ के प्रति हो रहे अपराध नही रूक जाते तब तक उन्हें अपनी सुरक्षा का ख्याल रखना पड़ेगा.

आजमी ने महिला अपराधो के खिलाफ कड़े कानून बनाने की मांग करते हुए कहा की बलात्कार और छेड़छाड़ जैसी घटनाओं के लिए सरकार को कड़े कानून बनाने चाहिए. निर्भय केस के बाद सरकार ने कुछ कानून बनाये लेकिन उनसे अपराधो में कमी नही आई बल्कि और बढ़ गए. आजमी ने अरब देशो का हवाला देते हुए कहा की वहां भी लडकिया आधुनिक कपडे पहनती है लेकिन कड़े कानून होने की वजह से वहां ऐसे अपराध नही होते.

बंगलोर मास मोलसटेसन मामले में अपने बयान पर सफाई देते हुए आजमी ने कहा की मीडिया ने टीआरपी के चक्कर में मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया. जो मैं कहना चाहता था उसको न दिखा कर मेरे ब्यान को कट पेस्ट करके दिखाया गया. मैं आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग करता हूँ. लिव-इन पर अपनी राय रखते हुए आजमी ने कहा की इस्लाम में इसकी मनाही है. मैं मानता हूँ की बिना निकाह की किसी भी महिला को किसी पुरुष के साथ नही रहना चाहिए.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें