तबरेज अंसारी की विधवा बोली – ‘सिर्फ इंसाफ की उम्मीद पर ही जिंदा हूं’

6:23 pm Published by:-Hindi News

झारखंड के सरायकेला में कथित चोरी के आरोप में पिटाई के बाद अपनी जान से जा चुके 24 साल के तबरेज़ अंसारी की पत्नी शाहिस्ता परवीन अपने पति को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ रही है।

ऐसे में जब उन्हे पता चला कि पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में भादवि की धारा 302 के तहत चार्जशीट दायर की गई तो इस पर तबरेज की पत्नी ने शाइस्ता परवीन ने खुशी जताई।

शाइस्ता परवीन ने कहा कि न्याय की इस लड़ाई में अल्लाह पर पूरा भरोसा है। जिससे पहली लड़ाई में सफलता मिली है। इस लड़ाई में जीत तभी होगी जब पति के हत्यारों को फांसी की सजा दी जाएगी। सभी आरोपियों को फांसी की सजा मिलने पर ही मुझे तसल्ली आएगी।

बता दें कि तबरेज और शाइस्ता की इसी साल 27 अप्रैल को शादी हुई थी। दोनों पुणे जाने वाले थे और इसके लिए टिकट भी बन गया था। लेकिन इसी बीच तबरेज की ह*त्या कर दी गई। घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें भीड़ जबरन तबरेज से जय श्री राम के नारे लगवा रही थी।

तबरेज की पिटाई वाले दिन 17 जून को शाइस्ता बीमार हो गईं थीं और उनका गर्भपात हो गया था। वह घंटों तक बैठकर यही सोचा करती थीं कि अब वह कैसे अपने जीवन को उबार पाएंगी। वह कहती हैं, ‘इंसाफ चाहिए, बस।’ शाइस्ता जानती हैं कि उन्हें अभी बहुत कठिन सफर तय करना है लेकिन उन्हें न्याय पर पूरा भरोसा है।

शाइस्ता ने कहा, ‘मुझे अपने पति के लिए न्याय चाहिए। एक बेगुनाह शख्स निर्ममतापूर्वक मा’र दिया गया।’ उन्होंने कहा, ‘जबतक दोषियों को सजा नहीं मिलती तब तक वह चुप नहीं बैठेंगी।’

Loading...