दिल्ली की एक अदालत ने आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक सोमनाथ भारती को साल 2016 में एम्स के सुरक्षा कर्मी से मारपीट के मामले में 2 साल की जेल और एक लाख रूपये जुर्माने की सजा सुनाई है। उन्हे अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के सुरक्षा कर्मचारियों के साथ मारपीट करने का दोषी ठहराया गया है।

राउज एवेन्यू स्थित अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट रविन्द्र कुमार पांडे की अदालत ने इस मामले में ‘आप’ विधायक सोमनाथ भारती को दोषी ठहराते हुए कहा कि अभियोजन पक्ष ने विधायक के खिलाफ आरोप साबित करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य पेश किए हैं।

अदालत ने भारती को मारपीट, सरकारी कार्य में लगे व्यक्ति के साथ बदसलूकी, दंगे के इरादे से एकत्रित होने, घातक के हथियार के साथ दंगे में शामिल होने एवं सरकारी संपति को नुकसान पहुंचाने के तहत दोषी ठहराया है। हालांकि अदालत ने इस मामले के चार अन्य आरोपियों जगत सैनी, दलीप झा, राकेश पांडे, एवं संदीप को साक्ष्यों के अभाव में बरी कर दिया है।

अदालत ने कहा कि एम्स के सुरक्षा गार्ड अपनी ड्यूटी पर तैनात थे और क्योंकि वह सरकारी संपत्ति की सुरक्षा में तैनात थे, इसलिए उनके कार्य को सरकारी सेवा के अंतर्गत माना जाना न्यायसंगत है। भारती समेत अन्य भीड़ ने सुरक्षाकर्मी का जख्मी किया। इस तरह उन्होंने सरकारी कर्मचारी को चोट पहुंचाई। वहीं, एम्स की दीवार को तोड़ने का प्रयास करना सरकारी संपति को नुकसान पहुंचाना है।

अदालत के फैसले के पर AAP विधायक सोमनाथ भारती ने कहा कि मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। मैं आदेश के खिलाफ अपील दायर कर रहा हूं, जिसमें मुझे दोषी ठहराया गया और सजा सुनाई गई है। सोमनाथ भारती ने अदालत से उन्हें प्रोबेशन पर छोड़े जाने का अनुरोध किया है।