राष्ट्रीय उलमा परिषद के अध्यक्ष आमिर रशादी ने लखनऊ में हुए सैफुल्लाह के एनकाउंटर को फर्जी करार दिया है. उन्होंने एनकाउंटर को सरकारी आतंकवाद बताते हुए कहा कि बाटला हाउस की तर्ज पर यह भी फर्जी एनकाउंटर है. इसी के साथ रशादी ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह को आतंकी संगठन का होम मिनिस्टर करार दे दिया.

रशादी ने सवाल उठाते हुए कहा कि जंगले के आसपास पुलिस वाले घूम रहे हैं. कहा जा रहा है कि क्रॉस फायरिंग हो रही है, आखिर क्रॉस फायरिंग हो रही थी तो पुलिस वाले घूम कैसे रहे थे?  उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस वालों ने सैफउल्लाह को घर के अंदर बंधक बना रखा था. पूरे मामले में डीजीपी का कोई वर्जन न आना भी अपने आप में संदेह खड़ा कर रहा है.

रशादी ने कहा कि फैजुल्ला के पिता से फोन करके पुलिसवाले ये कहते हैं कि लड़के से कहो सरेन्डर करे लेकिन लड़के से बात ही नहीं कराई गई. किससे सरेन्डर करवा रहे हो. कभी एटीएस वाले कहते हैं कि तीन पासपोर्ट मिले तो दो पासपोर्ट होने की बात करते हैं. पहले बोला सैफुल्ला आईएस वाला है ‍फिर बोलते हैं आईएस वाला नहीं है इसका क्या मतलब है. एटीएस के लोग पहले भी ऐसे काम कर चुके हैं.

सैफुल्ला अगर अंदर था तो सैफुल्ला के भाई और पिता का नंबर पुलिस को कैसे मिला. अधिकारी फोन करके कह रहा है कि लड़के से कहो सरेन्डर कर दे. पूरा एनकाउंटर फर्जी है. पूरे एपिसोड से डीजीपी का आउट ऑफ रेन्ज होना और एडीजे लॉ एन्ड ऑर्डर का बार-बार बयान बदलना साजिश बता रहा है. जो आतंकवादी घर के अंदर बंद है उसके पास से बाप का नंबर कैसे मिला यही सबसे बड़ा सवाल है.

मकान के अंदर जितने हथियार मिले वो सब पुलिस के थे. फायरिंग फैजुल्ला नहीं कर रहा था खुद पुलिसवाले अंदर से कर रहे थे. आईएस का झंडा दिखाया गया वो भी पूरी तरह से साजिश का ही हिस्सा है. इस फर्जी एनकाउंटर से मुसलमानों को बर्बाद करने के लिए आरएसएस ने ये काम किया है.

सपा संरक्षक मुलायम सिंह पर आरोप लगाते हुए रशादी ने कहा कि मुलायम ने अपनी हुकूमत में रामलला वाले मसले पर अपनी ताकत सबसे सामने दिखाने के लिए  7 लोगों को पकड़वाया था. वैसा ही काम उनके बेटे अखिलेश ने भी किया है. इस मामले को लेकर सुप्रीमकोर्ट जाएंगे.

उन्होंने मांग कि एनकाउंटर के समय मौजूद पुलिसकर्मियों और एटीएस कर्मियों का नारको टेस्ट कराया जाए. उन्होंने बताया कि फर्जी एनकाउंटर का मास्टरमाइंड एडीजी हैं, जो हिंदू और मुसलमानों के बीच नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा आरएसएस और बीजेपी के साथ अखिलेश सरकार ने मिलकर यह काम किया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?