समझौता, मालेगांव और मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में मुख्य खूंखार आतंकी स्वामी असीमानंद आज जमानत पर जेल से रिहा हो गया हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का ये नेता बीते छह सालों से जेल में बंद था.

चंचलगुड़ा केंद्रीय कारावास से रिहा हुए असीमानंद सहित उसके सहयोगी भारत मोहनलाल रतेश्वर को 23 मार्च को जमानत दी थी. हालांकि असीमानंद को अदालत की इजाजत के बगैर हैदराबाद से बाहर नहीं जाने का निर्देश दिया गया हैं. साथ ही आवश्यकता पड़ने पर सुनवाई के दौरान हाजिर रहने को भी कहा गया है.

असीमानंद 2007 के समाझौता एक्सप्रेस विस्फोट की साजिश रचने का मुख्य आरोपी हैं. इस आतंकी घटना में 68 लोग मारे गए थे, जिनमें से अधिकांश पाकिस्तानी थे. इसके अलावा उस पर उत्तरी महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित मुस्लिम बहुल शहर मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को हुए विस्फोट करने का भी आरोप हैं. जिसमे सात लोग मारे गए थे. हालांकि इस मामले में असीमानंद को पहले ही जमानत मिल चुकी है.

18 मई 2007 को मक्का मस्जिद में हुए विस्फोट में 9 लोग मारे गए थे. इस घटना में शामिल होने के आरोपों के तहत नवंबर 2010 में असीमानंद की गिरफ्तारी हुई थी. वहीँ असीमानंद अजमेर बम ब्लास्ट के मामले में भी आरोपी था. हालांकि जयपुर कोर्ट ने उसे इस केस में बरी कर दिया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?