जयपुर । मशहूर गीतकार जावेद अख़्तर, राजपूतों के ऊपर दिए गए एक बयान की वजह से मुश्किल में फँस गए है। उनके ख़िलाफ़ जयपुर एक थाने में मामला दर्ज कराया है। उन पर आरोप है की विवादित बयान देकर पूरे राजपूत समुदाय का अपमान किया है। इसी बीच करनी सेना ने जावेद अख़्तर को धमकी देते हुए कहा की हम उन्हें जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में नही आने देंगे और उनका विरोध करेंगे।

उल्लेखनीय है कि जावेद अख़्तर ने फ़िल्म ‘पद्मावती’ विवाद में कूदते हुए राजपूतों को अंगेजो का ग़ुलाम क़रार दिया था। उन्होंने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा था कि राजपूत-रजवाड़े अंग्रेजों से तो कभी लड़े नहीं और अब सड़कों पर उतर रहे हैं। ये जो राणा लोग हैं, महाराजे हैं, राजे हैं राजस्थान के, 200 साल तक अंग्रेज के दरबार में खड़े रहे। पगड़ियाँ बाँधकर, तब उनकी राजपूती कहाँ गयी थी।

जावेद अख़्तर यही नही रुके उन्होंने आगे कहा की ये लोग राजा ही इसलिए है क्योंकि उन्होंने अंग्रेजो की ग़ुलामी स्वीकार की थी। दरअसल जावेद अख़्तर ‘पद्मावती’ को लेकर हो रहे विवाद से नाराज़ थे। उन्होंने फ़िल्म का समर्थन हुए कहा की पहले फ़िल्म को रिलीज़ होने दे, बिना देखे कैसा कहा जा सकता है की फ़िल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गयी है। इससे पहले जावेद अख़्तर की पत्नी और अभिनेत्री शबाना आज़मी हालिया विवाद को गुजरात चुनाव से जोड़ चुकी है।

जावेद अख़्तर के बयान के बाद राजस्थान में उनके ख़िलाफ़ उग्र प्रदर्शन किए गए। कई जगहों पर उनके पुतले भी फूंके गए। उधर प्रताप सिंह शेखावत नामक एक एडवोकेट ने जावेद अख़्तर के ख़िलाफ़ जयपुर के सिंधीकैम्प थाने में परिवाद दर्ज कराया है। वही करनी सेना के अध्यक्ष महिपाल मकराना ने जावेद अख़्तर के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा की उन्होंने ऐसा बयान देकर हमारी नज़रों में अपना सम्मान कम किया है। अब वो पधारो महारो देश के हक़दार नही है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?