नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने 955 विदेशी जमातियों को 9 अलग-अलग जगहों पर शिफ्ट करने का आदेश दिया है। ये जमाती अभी अलग-अलग क्वारंटाइन सेंटर में मौजूद हैं। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि जमातियों के खाने और रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने की जिम्मेदारी तबलीगी जमात की होगी।

हाई कोर्ट ने कहा कि सभी विदेशी जमातियों को क्वारंटीन सेंटरों से शिफ्ट करके 9 तयशुदा जगहों पर रखा जाएगा। कोर्ट ने कहा है कि सभी 9 तयशुदा जगहों पर किन-किन जमातियों को रखा जाएगा इसकी पूरी लिस्ट तैयार करके दिल्ली पुलिस को दी जाए। हाई कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि ये विदेशी जमाती जिन जगहों पर रखे जाएंगे वहां से वे बिना इजाजत कहीं और नहीं जा सकते हैं।

बता दें कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा तीन देशों के 536 तबलीगी जमात सदस्यों के खिलाफ 12 आरोप पत्र दायर करेगी। पुलिस अभी तक 32 देशों के 374 विदेशी नागरिकों के खिलाफ आरोप पत्र दायर कर चुकी है। अधिकारियों ने बताया कि तबलीगी जमात के सदस्यों के खिलाफ आरोप लगाए गए हैं कि उन्होंने वीजा नियमों एवं महामारी संबंधी कानून के तहत सरकारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया तथा ऐसी लापरवाही की जो जानलेवा बीमारी फैलाने की वजह बन सकती है।

बता दे कि बीते मंगलवार को 20 अलग-अलग चार्जशीट कोर्ट में दायर की गयी थीं। जबकि बुधवार को 15 अलग-अलग चार्जशीट दायर करने के अलावा आज यानी गुरुवार को 12 अलग-अलग चार्जशीट की गयी हैं। जबकि अब तक निजामुद्दीन मरकज मामले में कुल 47 चार्जशीट क्राइम ब्रांच ने साकेत कोर्ट में दाखिल की हैं और कुल आरोपी 910 हैं, जो कि विदेशी हैं।

वहीं, इन सभी विदेशी नागरिकों के खिलाफ वीजा नियमों का उल्लंघन, आईपीसी की धारा 269, 271, धारा 144 का उल्लंघन और महामारी एक्ट के तहत चार्जशीट दायर की गई है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन