7,620 भारतीय नागरिक विदेशी जेलों में बंद है. इस बात की जानकारी गुरुवार को संसद में विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर ने दी है.

उन्होंने बताया कि ये कैदी विभिन्न देशों की 86 जेलों में बंद हैं, जिसमें कम से कम 50 महिलाएं हैं. विदेशी जेलों में बंद भारतीयों में से कुल 56 पर्सेंट लोग खाड़ी देशों में हैं. जिसमें सबसे ज्यादा 2,084 लोग सऊदी अरब की जेलों में बंद हैं, इन पर घूस, चोरी और हेराफेरी के आरोप हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

श्रीलंका भारतीय नागरिकों पर सीमा पार करने का आरोप में में सजा काट रहे है. वहीं, तमिलनाडू के रहने वाले ज्यादातर लोग बांग्लादेश, ब्रूनेई और भूटान की जेलों में हैं.

इसके अलावा कनाडा और आस्ट्रेलिया में 115 कैदी हैं जिनपर हत्या, मनी लॉन्ड्रिग और रोड एक्सिडेंट के मामले दर्ज हैं. वहीँ ड्रग्स और मानव तस्करी और वीजा संबंधी मामलों के चलते दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों जैसे थाईलैंड, मलेशिया और सिंगापुर की जेलों में कैद हैं.

एम जे अकबर ने बताया कि 2004 में कैदियों को उनके देश भेजने संबंधी कानून के बनने के बाद लगभग 170 आवेदन आए हैं, जिसमें से 62 भारतीयों को देश लाया गया है. अब तक भारत ने 30 देशों के साथ संधि की है, जिसके तहत कई भारतीयों को वापस लाया गया है.

Loading...