शॉर्ट वीडियो एप टिक टॉक ने भारत में अपने कंटेंट गाइडलाइन नियम का उल्लंघन करने पर अपने प्लेटफॉर्म से 60 लाख वीडियो डिलीट किए हैं।

टिकटॉक के एक टॉप एग्जिक्यूटिव ने बताया कि कंपनी अपनी पूरी व्यवस्था को मजबूत बनाने की कोशिश कर रही है ताकि टिकटॉक पर गैरकानूनी और अश्लील कॉन्टेंट को रोका जा सके।

टिक-टॉक इंडिया के सेल्स और पार्टनरशिप डायरेक्टर सचिन शर्मा ने एक मीडिया समूह को बताया, ‘टिक-टॉक यूजर्स को टैलेंट और क्रिएटिविटी दिखाने के लिए सेफ और पॉजिटिव इन-ऐप एन्वायरनमेंट देने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। टिक-टॉक किसी भी तरह से ऐसे कंटेंट को प्रमोट नहीं करता जो कम्यूनिटी की गाइडलाइन का उल्लंघन करे।’

शर्मा आगे कहते हैं, ‘भारत में 10 भाषाओं में उपलब्ध टिकटॉक ऐप पर गलत कॉन्टेंट के रिलीज होने से पहले ही उसे रोकने की दिशा में काम कर रहा है। यूजर्स को पॉजिटिव इन-ऐप इन्वाइरनमेंट देने के लिए कंपनी ने जुलाई 2018 से अब तक 60 लाख ऐसे विडियोज को हटाया है जो कम्यूनिटी गाइडलाइन्स का पालन नहीं कर रहे थे।’

कंपनी का दावा है कि कम्यूनिटी गाइडलाइन ट्रांसमिट होने वाले कंटेंट को चेक कर पता लगाने का काम करती है कि पोस्ट किया जाना वाला नुकसानदायक, भड़काऊ भाषण, यौन उत्पीड़न, बच्चों के खिलाफ या किसी प्रकार की अश्लील हरकतों को तो बढ़ावा नहीं दे रहा।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन