Sunday, January 23, 2022

CAA के खिलाफ अब BHU में उठी आवाज, 51 प्रोफेसरों ने चलाया हस्ताक्षर अभियान

- Advertisement -

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर देश के कई हिस्सों में अब भी विरोध-प्रदर्शन अब भी जारी है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) में भी इस कानून के खिलाफ खुलकर आवाज उठ रही है।

सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे छात्रों की गिरफ्तारी के बाद बीएचयू और उससे संबद्ध 51 प्रोफेसरों ने हस्ताक्षर अभियान चला कर अपना विरोध जताया है।शिक्षकों का कहना है कि, कोई भी कानून जबरदस्ती किसी पर नहीं थोपना चाहिए, बल्कि किसी को असुविधा हो तो उसे चेक करना चाहिए।

गौरतलब है कि पिछले गुरुवार (25 दिसंबर) को वाम संगठनों के आह्वान पर सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे करीब 12 छात्रों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। छात्रों का कहना है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे। उनका आरोप है कि तीन छात्रों को विश्वविद्यालय परिसर के हॉस्टल से पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने छात्रों के गिरफ्तारी से इंकार किया है।

bhu

ऐसे में शिक्षकों ने कहा- भारत लोकतांत्रिक देश है। सभी को विरोध और समर्थन का अधिकार है। बीएचयू के समाजशास्त्र प्रो. अजीत पांडे ने मीडिया को बताया है कि हम किसी भी कानून का विरोध नहीं करते है यदि कोई कमियां है तो उसे सरकार को दूर करना चाहिए। लोगों को शांतिपपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करना चाहिए।

उन्होने कहा, हम किसी भी हिसंक प्रदर्शन का समर्थन नहीं करते है। लेकिन कोई शांतिपूर्ण ढ़ग से विरोध प्रदर्शन कर रहा है तो उसे गिरफ्तार करना गलत है और यह लोकतात्रिंक अधिकारों के खिलाफ है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles