सुप्रीम कोर्ट की ये टिप्पणी देश में न्याय के दोयम दर्जे को स्पष्ट करती हैं, जिसमें एक गरीब के साथ अलग व्यवहार हो रहा हैं और एक अमीर के साथ अलग. सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी शराब कारोबारी विजय माल्या और तेलंगाना के एक शख्स से जुड़ी हैं जिसने साड़ी चुराई हैं और वह जेल में हैं. जबकि माल्या करोड़ों रु की हेराफेरी कर मजे में हैं.

दरअसल, सीएच एलिया नाम के एक शख्स को एक साल पहले हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया था. उसे बिना ट्रायल के जेल में डाल दिया गया. सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी शख्स की पत्नी द्वारा दायर की गई याचिका की सुनवाई करते हुए सवाल किया कि तेलंगाना सरकार साड़ी चुराने के जुर्म में किसी व्यक्ति को हिरासत में कैसे ले सकती है? आरोपी के वकील ने दलील दी कि जुर्म को साबित करने के लिए कोई गवाह तक नहीं था.

चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने कहा, “एक व्यक्ति जो करोड़ों रुपए लेकर भाग गया जिंदगी के मजे कर रहा है. लेकिन यहां एक शख्स जिसने साड़ियां चुराई वह जेल में है.” हालांकि चीफ जस्टिस ने सीधे-सीधे माल्या का नाम नहीं लिया. हालंकि अंदाज़ा लगाना मुश्किल नहीं है कि उनका निशाना किस और था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

तेलंगाना सरकार ने गिरफ्तारी पर सफाई देते हुए कहा कि हैदराबाद में साड़ी चोरों का एक गैंग चल रहा था और कई व्यापारियों ने इस बारे में शिकायत की थी. इस वजह से आरोपी को गिरफ्तार करना जरूरी हो गया था. सुप्रीम कोर्ट अब बुधवार को इसपर फैसला सुनाएगा.

Loading...