अलीगढ़। नागरिकता संशोधन बिल को लेकर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के करीब 25,000 छात्रों ने प्रदर्शन किया। जिसके बाद पुलिस ने सरकारी कार्य में बाधा व शांति भंग की धारा के तहत 20 नामजद सहित 500 छात्रों के खिलाफ मामला दर्ज किया।

दरअसल, मंगलवार शाम हजारों की संख्या में छात्रों ने मशाल जुलूस निकाला। जुलूस बॉबे सैयद तक निकलना था, लेकिन छात्र रूकने के बजाए एएमयू सर्किल तक पहुंच गए। बॉबे सैयद पर छात्रों ने धरना देने का प्रयास भी किया। बता दें कि इंतजामिया ने छात्रों को मार्च निकालने के लिए लाइब्रेरी कैंटीन से बॉबे सैयद तक अनुमति दी थी।

पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष सलमान इम्तियाज ने कहा कि यह मशाल जलूस नागरिकता बिल के विरोध में निकाला गया है। हमारी अपील है कि राज्य सभा में सांसद इस बिल का समर्थन नहीं करें। सलमान ने कहा कि यह बिल केवल मुसलमानों के लिए ही नहीं बल्कि हिंदु समुदाय और हिंदुस्तानी संस्कृति के लिए भी खतरा है।

इम्तियाज ने दावा किया कि भूख हड़ताल के दौरान विश्वविद्यालय के सभी 2500 छात्रों ने कुछ नहीं खाया। वहीं छात्रों के संघ के पूर्व उपाध्यक्ष, हमजा सूफियान ने दावा किया कि कई छात्र जो परीक्षाओं में उपस्थित होना चाहते थे, उन्होंने परीक्षा नहीं दी और भूख हड़ताल और विरोध प्रदर्शन में भाग लिया।

सर्कल ऑफिसर अनिल कुमार ने कहा “20 छात्रों के अलावा, 500 से अधिक अज्ञात व्यक्तियों को बिना अनुमति भीड़ इकट्ठा करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ), प्रांतीय सशस्त्र कांस्टेबुलरी (पीएसी) और चार पुलिस स्टेशनों के कर्मियों को रोकथाम के उपाय के रूप में तैनात किया गया है। वर्तमान में छोटे-छोटे विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और स्थिति नियंत्रण में है।”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन