नई दिल्ली – कृषि क़ानूनों के विरोध में प्रदर्शन के लिए देश की राजधानी पहुँच चुके आंदोलनकारी किसानों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए दिल्ली की 25 मस्जिदों में तैयारियां पूरी हो चुकी है। इसके अलावा किसानों के रात रुकने की भी व्यवस्था की गई है।

यूनाइटेड अगेंस्ट हेट (UAH) के नदीम खान के मुताबिक, उनका संगठन उन किसानों तक पहुंचने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है जो हाल ही में तीन किसान विरोधी विधेयकों को रद्द करने की मांग के साथ राष्ट्रीय राजधानी आए हैं।

उन्होंने क्लेरियन इंडिया को बताया कि हौज़ खास, ओखला, ओल्ड रोहतक रोड और पुरानी दिल्ली में रसोई काम कर रही हैं। उन्होने कहा, हम इन स्थानों पर लोगों को खाना खिला रहे हैं। हम उन जगहों पर भी भोजन के पैकेट पहुंचा रहे हैं जहाँ से अनुरोध आ रहे हैं। इसके अलावा, भोजन के पैकेट के साथ हमारी वैन उन जगहों पर जा रही हैं जहाँ किसान बड़ी में हैं।

पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड और राजस्थान जैसे राज्यों के कुछ 500 संगठनों द्वारा जुटाए गए किसानों ने हाल ही में लागू कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करते हुए 26-27 नवंबर को दिल्ली चलो की योजना बनाई। हालांकि उन्हे गुरुवार को दिल्ली की सीमाओं पर रोक दिया गया।

लेकिन कड़े प्रतिरोध के मद्देनजर सरकार ने किसानों को शुक्रवार दोपहर में राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने दिया गया और विरोध प्रदर्शन के लिए बरारी के निरंकारी मैदान में ले जाया गया। लेकिन, रिपोर्टों के अनुसार, राजधानी में हर जगह किसानों को देखा जा सकता है। “हम विभिन्न स्थानों से कॉल आ रहे हैं। हमारा उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि कोई भी भूखा न रहे। ”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano