obc

oriental bank of commerce ambala road 1347699941 563 d pic

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में द्वारका दास सेठ इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के 390 करोड़ के घोटाले की जाँच अभी ठीक से शुरू भी नहीं हुई थी कि अब एक और घोटाला सामने आ गया है. 200 करोड़ रूपये का ये घोटाला हापुड़ की सिम्भावली शुगर्स लिमिटेड से जुड़ा है.

ओबीसी का दावा है कि हापुड़ की सिम्भावली शुगर्स लिमिटेड ने बैंक की मेरठ ब्रान्च में 200 करोड़ की धोखाधड़ी 2011 में की और 2015 में उसे फिर से दोहराया. इस मामले में अब CBI ने कंपनी के सीएमडी गुरमीत सिंह मान, डिप्टी एमडी गुरपाल सिंह और सीएफओ, एग्जिक्यूटिव और नॉन एग्जिक्यूटिव्स डायरेक्टर्स समेत 8 अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

गुरपाल सिंह पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के दामाद बताए जा रहे हैं. सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल के मुताबिक, एजेंसी ने निदेशक के घर, कारखाने और दिल्ली, हापुड़ और नोएडा में कंपनी के कॉरपोरेट और दफ्तरों समेत 8 ठिकानों पर तलाशी ली.

ओबीसी की ओर से दायर शिकायत में कहा गया है कि कंपनी ने 2011 में 150 करोड़ रुपये का लोन लिया था. ये लोन 5,762 गन्ना किसानों को आर्थिक मदद के रूप में बांटना था. लेकिन कंपनी ने फर्जीवाड़ा कर इस रकम को अपने काम के लिए भी खर्च कर लिया. 31 मार्च 2015 को यह लोन एनपीए बन गया. बैंक की ओर से 12 मई 2015 को इस लोन अकाउंट को फर्जी करार दे दिया गया और इसकी रकम 97.85 करोड़ रुपये बताई गई.

जब ओबीसी डेट रिकवरी ट्राइब्यूनल के पास पहुंची तो सिंभावली शुगर्स ने पिछला लोन चुकाने के नाम पर 2015 में 110 करोड़ रुपये का फिर से लोन लिया. एफआईआर के मुताबिक, दूसरे लोन को नोटबंदी के 20 दिन बाद 29 नवंबर 2016 को एनपीए घोषित कर दिया गया. एफआईआर में ये भी कहा गया है कि बैंक से 97.85 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला है लेकिन असल में बैंक को 109.08 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

इसके चलते सिंभावली शुगर्स लिमिटेड पर 97.85 करोड़ रुपये का पहला बकाया फ्रॉड माना गया और 109.08 करोड़ रुपये का नया कॉरपोरेट लोन बकाया हो गया.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें