केंद्र की मोदी सरकार द्वारा 2018 की हज यात्रा से हज सब्सिडी खत्म करने के फैसला लेने के बाद हाजियों को बड़ी राहत मिली है. दरअसल, हज सब्सिडी खत्म होने के बाद अब हज किराए में 15 से 45 फीसदी तक की कमी आई है.

अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि पहली बार जहां रिकार्ड संख्या में हज यात्री जाएंगे वहीं बहुत समय बाद उन्हें सबसे सस्ता किराया देना होगा. उन्होंने बताया कि हज-2018 में रिकार्ड एक लाख 70 हजार 25 यात्री हज करने जाएंगे.

2014 में मुंबई से हाजियों को हवाई किराया 98,750 रूपये देना होता था जो अब घट कर 57,857 रूपये हो गया है. श्रीनगर से किराया 1,98,350 रूपये था वो अब 1,01,400 रूपये हो गया है. अहमदाबाद से 98,750 रूपये की बजाय 65,015 होगा तो बेंगलुरु से किराया 1,04,950 की बजाय 82,419 होगा. वहीं औरंगाबाद का किराया 2013-14 के 1,18,450 रुपये के मुकाबले इस साल 84,946 रुपये हो जाएगा.  भोपाल का किराया 1,27,750 रुपये से घटकर 2018 में 91,090 रुपये हो जाएगा. कोच्चि का किराया 1,04,950 रुपये से घटाकर 74,431 रुपये होगा और गया से हज यात्रा का किराया 1,46,500 रुपये के मुकाबले घटकर 98,852 रुपये होगा. चेन्नई 1,05,000 रुपये किराया था जो अब 77,181 रुपये होगा. गोवा से 1,27,450 रुपये हवाई किराया था, जो 2018 में 82,730 रुपये हो जाएगा. मेंगलूर से हज यात्रा के लिए 1,45,250 रुपये किराया था, जो 2018 में घटकर 84,280 रुपये हो जाएगा. वाराणसी से हज यात्रा का किराया 1,12,300 रुपये से घटाकर 2018 में 92,004 रुपये हो गया है. कोलकाता से हज यात्रा का किराया 1,12,450 था. अब कोलकाता के हज यात्र‍ियों को 89,589 रुपये किराया देना होगा. लखनऊ से किराया पहले 1,06,750 रुपये था, जो 2018 में घटाकर 78,933 रुपये हो गया है. नागपुर से किराया 1,16,950 रुपये से घटाकर अब 70,680 रुपये कर दिया गया है.

नकवी ने बताया कि इस बार हज यात्रा के लिए विमानन कंपनियों से पूरी तरह ऑन लाइन निविदा आमंत्रित की गई जिसमें इंडियन एअरलाइन्स के अलावा सऊदी एअरलाइन और फ्लाईनास ने सबसे कम कीमत लगाई. उन्होंने बताया कि इंडियन एअरलाइन्स और सऊदी एअरलाइन सात-सात स्थानों से तथा फ्लाईनास विमानन कंपनियों के विमान छह स्थानों से उड़ानें भरेंगे. उन्होंने कहा,‘हज सब्स्डिी के नाम पर दशकों से चल रही लूट और सियासी शोषण का खात्मा हुआ है’.

ध्यान रहे बरसों से देश का मुसलमान हज सब्सिडी को समाप्त करने की मांग करते आ रहा था. जो अब जाकर पूरी हुई. मुस्लिम समुदाय का आरोप था कि हज सब्सिडी मुस्लिमों के नाम पर एयर इण्डिया को दी जा रही थी. इस बारे में नकवी ने कहा, हज सब्सिडी का सवाल है तो समुदाय के 90 प्रतिशत लोगों ने इसे समाप्त करने का समर्थन किया था. चंद लोग राजनीतिक कारणों से इसके खिलाफ शोर मचा रहे थे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?