‘UPSC जिहाद’ के मुंह पर तमाचा, जामिया से 12 छात्रों का UPPCS में हुआ सिलेक्शन

सुदर्शन टीवी (Sudarshan News) द्वारा सिविल सेवाओं में मुस्लिमों की भर्ती को ‘UPSC जिहाद’ करार देने के बीच दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) से उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (UPPSC)-2018 में 12 छात्रों को कामयाबी मिली है।

जानकारी के अनुसार, इन सभी छात्रों ने जामिया की रेजिडेंट कोचिंग अकेडमी (आरसीए) में कोचिंग और ट्रैनिंग कर ये कामयाबी हासिल की है। ये सभी अब उत्तर प्रदेश में असिस्टेंट कमिश्नर, एसडीएम, रिजल्ट ट्रांसपोर्टेशन ऑफिसर बनेंगे।इससे पहले अगस्त में आरसीए से 30 उम्मीदवारों का चयन यूपीएससी की सिविल सर्विसेज एग्जाम में हुआ था।

ये खबर ऐसे समय में सामने आई है जब दिल्ली हाई कोर्ट ने सुदर्शन टीवी (Sudarshan News) के ‘बिंदास बोल’ (Bindas Bol) कार्यक्रम के प्रसारण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। कार्यक्रम के प्रोमो में दावा किया गया था कि चैनल ‘सरकारी सेवाओं में मुसलमानों की घुसपैठ के षड्यंत्र पर बड़ा खुलासा’ होगा।

सेंटर के डिप्टी डायरेक्टर मौहम्मद तारिक़ के अनुसार, ‘2010 में कोचिंग सेंटर की स्थापना के बाद से 240 से अधिक छात्र चुनकर, बतौर आईएएस, आईपीएस, आईआरएस, और कस्टम्स अधिकारी नियुक्त हो चुके हैं। 260 से ज़्यादा छात्र, राज्य सेवाओं और बीएसएफ व आईटीबीपी जैसे, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों में, बतौर ऑफिसर्स नियुक्त किए जा चुके हैं।’

विज्ञापन