Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

जामिया हिं’सा को लेकर 10 गिरफ्तार, VC बोली – दिल्ली पुलिस के खिलाफ दर्ज कराएंगे FIR

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया में पुलिस कार्रवाई और विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी हैं। इसी बीच मंगलवार को पुलिस ने उपद्रव फैलाने के आरोप में 10 लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस का कहना है कि इनमें सभी आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं। किसी भी छात्र को गिरफ्तार नहीं किया गया।  पुलिस के मुताबिक जल्द ही केस में कुछ और गिरफ्तारियां होंगी।

वही दूसरी और अब जामिया प्रशासन ने भी दिल्ली पुलिस के खिलाफ FIR दर्ज कराने का फैसला किया है। इतना ही नहीं इस घटना की उच्चस्तरीय जांच के लिए विश्वविद्यालय केंद्रीय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय से एक समिति गठित करने की मांग भी करेगा।

जामिया की कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने कहा कि पुलिस बिना अनुमति के परिसर में दाखिल हुई थी। हम परिसर में पुलिस की मौजूदगी को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने अपनी बर्बरता से विद्यार्थियों और कर्मचारियों को डराया। विश्वविद्यालय की संपत्ति को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा है।

उन्होंने कहा कि संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और विद्यार्थियों पर पुलिस की कार्रवाई के संबंध में हम प्राथमिकी दर्ज कराएंगे। हम उच्चस्तरीय जांच चाहते हैं। मानव संसाधन मंत्री से अपील की जाएगी कि रविवार को जो कार्रवाई हुई, उसमें गलती किसकी है, वे इसका पता लगाएं।

कुलपति ने कहा कि मैं पहले ही एचआरडी मंत्रालय के सचिव से बात कर चुकी हूं और उन्हें स्थिति के बारे में बता चुकी हूं। विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद (ईसी) की बैठक सोमवार को स्थिति पर चर्चा करने के लिए बुलाई गई थी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के मनोबल को जो क्षति पहुंची है, उसका क्या? हम क्षति का आकलन कर रहे हैं।

कुलपति ने कहा कि हमने पहले ही छुट्टी घोषित कर दी थी क्योंकि हम अपने विद्यार्थियों को सुरक्षित रखना चाहते थे। कुलपति ने कहा कि हम किसी भी विद्यार्थी को छात्रावास खाली करने के लिए मजबूर नहीं कर रहे हैं लेकिन इसमें हम उनकी मदद करेंगे। हम किसी भी राजनीतिक संगठन से जुड़े नहीं हैं और हम यहां किसी को भी आने की मंजूरी नहीं देंगे।

जामिया के रजिस्ट्रार एपी सिद्दीकी ने कहा कि यह युद्ध जैसी स्थिति थी। हमने गोलीबारी करने के मामले में संयुक्त पुलिस आयुक्त से सवाल किया और उन्होंने इनकार किया। परिसर के भीतर से पुलिसकर्मियों पर कोई पथराव नहीं हुआ है। अगर कुछ बाहरी लोगों ने ऐसा किया है तो हमारे पास इसकी पुष्टि करने का कोई साधन नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles