Friday, December 3, 2021

2 सालों में 1.85 लाख करोड़ का हुआ बैंक फ्रॉड, 80 फीसदी सरकारी बैंकों में

- Advertisement -

मुंबई। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने मंगलवार को जारी वार्षिक रिपोर्ट में बताया कि पिछले 2 सालों में बैंक फ्रॉड का आंकड़ा दोगुना से भी अधिक हो गया है। करीब 1.8 लाख करोड़ रुपए के बैंक फ्रॉड सामने आए है, जिसमे 80 फीसदी हिस्सेदारी सरकारी बैंकों की है। जबकि 18 फीसदी आकड़ा निजी बैंक से जुड़ा है।  2 फीसदी के मामले ऑफ-बैलेंस शीट, कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग के सेगमेंट से हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2020-21 की जून तिमाही में पिछले साल की जून तिमाही के मुकाबले फ्रॉड के मामलों में कमी आई है। रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल-जून 2020 में बैंक फ्रॉड की रकम 28,843 करोड़ रही, वहीं अप्रैल-जून 2019 में यह आंकड़ा 42,228 करोड़ रुपए का था।

दूसरी और आरबीआई ने मंगलवार को ऐलान किया कि वह खुले बाजार में परिचालन (ओएमओ) के हिस्से के रूप में 20 हजार करोड़ खरीद की सरकारी प्रतिभूतियों के लायक रुपये बिक्री का आयोजन करेगा। यह ओएमओ 27 अगस्त और 3 सितंबर को दो चरणों में आयोजित किया जाएगा।

आरबीआई ने कहा कि मल्टी-सिक्योरिटी नीलामी में दो किस्तों की कीमत 10,000 करोड़ रुपये जारी की जाएगी। आरबीआई ने कहा कि योग्य प्रतिभागियों को 27 अगस्त, 2020 को सुबह 10:00 बजे से 11:00 बजे के बीच आरबीआाई कोर बैंकिंग सोल्यूशन (ई-कुबेर) प्रणाली पर इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में अपनी बोलियां या प्रस्ताव प्रस्तुत करना चाहिए। नीलामी के परिणाम उसी दिन घोषित किए जाएंगे।

रिजर्व बैंक ने कहा कि वह जारी तरलता और बाजार की स्थितियों की निगरानी करना जारी रखेगा और वित्तीय बाजारों के क्रमबद्ध कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए उचित उपाय करेगा।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles