Friday, July 30, 2021

 

 

 

बैंक की गलती से बने एक खाते के दो मालिक, एक पैसे डालता रहा, दूसरा मोदी जी भेज रहे…

- Advertisement -
- Advertisement -

भिंड: मध्य प्रदेश भिंड के एक शख्स ने पीएम मोदी के चुनावी भाषणों को कुछ ज्यादा ही सीरियसली ले लिया जिसके कारण अब उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि इसमें कहीं कह तक बैंक की गलती भी है.

दरअसल हुआ कुछ यूं कि यहां रूरई गांव के रहने वाले हुकुम सिंह और रोनी गांव के रहने वाले हुकुम सिंह, दोनों ने आलमपुर ब्रांच में खाता खुलवाया. बैंक की गलती से दोनों का पता, और खाता नंबर एक ही मिल गया. यानी खाता एक और मालिक दो हो गये. केवल पासबुक में सिर्फ फ़ोटो अलग-अलग था.

खाता खुलवाने के बाद रूरई का हुकुम सिंह कुशवाहा रोज़ी कमाने हरियाणा चला गया. वहां अपनी कमाई में से पैसे बचाकर वह बैंक खाते में जमा करवाते रहे. उधर रोनी गांव का हुकुम सिंह बैंक पहुंचकर पैसे निकालता रहा. यह सिलसिला एक दो बार नहीं पूरे 6 महीने तक चला. 6 महीने में कमाने वाले हुकुम सिंह के खाते से खर्च करने वाले हुकुम सिंह ने 89 हज़ार रुपये निकाल लिए.

इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब रूरई का हुकुम सिंह जमीन खरीदने के लिए अपने बैंक खाते से पैसे निकालने के लिए बैंक पहुंचा जहां बैंक (Bank) वालों ने उसे बताया कि उसके खाते में मात्र 35 हजार रुपए जबकि उसका कहना था कि अब तक वह 1,40,000 रुपए जमा कर चुका है. इसके बाद उन्होंने बैंक कर्मियों से इसकी शिकायत की लेकिन उनका आरोप है कि इस बात को बैंक के अधिकारियों ने दबाने की कोशिश की. बैंक मैनेजर राजेश सोनकर ने उनसे कहा कि पैसा खाताधारक को मिल जाएगा.

लेकिन पता लगा पैसे तो रोनी निवासी हुकुम सिंह के पास हैं जब उनसे सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफ कहा,  ”मेरा खाता था. उसमें पैसा आया. मैं सोच रहा था मोदीजी पैसा दे रहे हैं तो मैंने निकाल लिया. हमारे पास पैसा नहीं था, हमारी मजबूरी थी. हमने घर में काम करवाया है और इसलिये पैसा हमें निकालना पड़ा.” रोनी निवासी हुकुम सिंह ने इस लापरवाही के लिए बैंक वालों को जिम्मेदार बताया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles