मिलिये हैदराबाद के अनिल कुमार से, जिसने 200 मस्जिदों में लिखीं कुरान की आयतें 

हैदराबाद के अनिल कुमार चौहान अपनी कैलीग्राफी की कला की वजह से न सिर्फ हैदराबाद बल्कि देश और इस्लामिक जगत में भी लोकप्रिय हो गए हैं। अनिल कुमार अरबी भाषा के कैलीग्राफी (सुलेख) की वजह लोकप्रिय हुए हैं। उनके दादा और पिता दोनों ही साइनबोर्ड पेंट किया करते थे, उन्हीं के नक्शेकदम पर चलते अनिल कुमार ने भी साइनबोर्ड को पेंट करके शुरू किया, चूंकि वे पुराने हैदराबाद में रहते थे, जहां साइनबोर्ड मुख्य रूप से उर्दू में थे, लेकिन अनिल कुमार उर्दू समझ नहीं सकते थे, उन्होंने एक शख्स से आग्रह किया कि वह साईनबोर्ड की भाषा कागज पर लिख दें, जिसे उन्होंने ध्यान से कॉपी किया। उन्होंने धीरे-धीरे भाषा सीखने में रुचि रखते हुए उर्दू भाषा भी सीख ली।

अनिल कुमार ने व्यावसायिक पेंटिंग डिप्लोमा भी किया है।  कई साइनबोर्ड पेंट करने के बाद 20 साल पहले पुराने शहर की एक मस्जिद में पवित्र कुरान की आयतों को चित्रित करने का पहला काम दिया गया था। उन्होंने पहली बार कलमा तैयब को लिखा (दक्षिण एशियाई मुसलमानों द्वारा अक्सर पढ़े जाने वाले छह इस्लामी वाक्यांशों में से पहला।) अनिल कुमार बताते हैं कि “मैं हरकत (ज़ेर, ज़बर, पेश) की मदद से उर्दू के समान अक्षरों की पहचान करके अरबी भी पढ़ सकता हूं।”

कलमा तैयब को अपनी सुलेख की कला से उकेरने वाले अनिल कुमार के पास उसके बाद शहर की मस्जिदों की दीवारों पर आयतें लिखने के लिए अन्य मस्जिदों से प्रस्ताव आने लगे। उन्होंने न केवल सुलेख सीखा बल्कि पैगंबर-ए-इस्लाम मोहम्मद मुस्तफ़ (स.अ.) प्रशंसा में नाअतिया कलाम को पढ़ना और पढ़ना भी सीखा। दिलचस्प यह है कि अनिल कुमार ने यह  बिना किसी इस्लामी संस्थान का दौरा किए सीखा।

200 मस्जिदों में काम कर चुके हैं

अनिल कुमार ने अब तक 200 से अधिक मस्जिदों में काम किया है, मस्जिदों की दीवारों को उत्कृष्ट सुलेख में लिखे कुरान के अंशों से सजाया है। उनका दावा है कि उन्होंने कम से कम सौ मस्जिदों से कोई भुगतान नहीं मांगा है, लेकिन उनके प्रयासों के लिए उन्हें कृतज्ञता के पत्र जरूर मिले हैं। उनके समुदाय में किसी ने भी मस्जिदों में कुरान की आयतें लिखने का विरोध नहीं किया, लेकिन  कुछ मुसलमानों ने विरोध जरूर किया। विरोध के बाद अनिल कुमार ने जामिया निजामिया विश्वविद्यालय से एक फतवा मंगाया जिसने प्रभावी रूप से उनके विरोधियों को चुप करा दिया।

अनिल कुमार बताते हैं कि “कई लोग मुझसे उनके लिए दुआ करने को कहते हैं। उन्हें लगता है कि मस्जिद में मेरे काम ने मुझे वह दर्जा दिलाया है। जामिया निजामिया विश्वविद्यालय में एक विशाल बोर्ड है, जिस पर सूरह यासीन लिखा है, जिसे अनिल कुमार ने गलियारे को सजाया है। कुमार ने कलिमा तैयब, सूरह यासीन, ख़ुल्फ़ा रशीदीन (इलाम के ख़लीफ़ा), आयत उल कुरसी और क़ुरान की कई आयतें लिखी हैं, सभी एक से बढ़कर एक हैं।

अनिल कुमार ने तीन साल के डिप्लोमा के लिए हैदराबाद के हाई-टेक सिटी में एसवी कॉलेज ऑफ फाइन आर्ट्स में भी दाखिला लिया था, लेकिन एक साल बाद, वह आर्थिक बाधाओं के कारण उसे जारी नहीं रख सके। अनिल बताते हैं कि लोग उन्हें नात (पैगंबर मुहम्मद की प्रशंसा में कविता) पढ़ने के लिए आमंत्रित करते हैं, वहीं से उन्होंने लोकप्रियता हासिल की है। लोग उनकी आवाज और अंदाज़ ए बयां के दीवाने हैं। उन्हें सिकंदराबाद में दो मस्जिदों द्वारा सप्ताह में एक बार मस्जिद के ब्लैक बोर्ड पर हदीस (पैगंबर मोहम्मद की बातें) लिखने के लिए भी नियुक्त किया गया है।

सर नहीं चढ़ने दी लोकप्रियता

अनिल कुमार ने पूरे भारत में कई टेलीविजन चैनलों, प्रिंट मीडिया के लिए कई बार साक्षात्कार दिए हैं। पिछले महीने उन्होंने जूम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक पाकिस्तानी चैनल को एक साक्षात्कार भी दिया था। अनिल कुमार ने अपनी लोकप्रियता और प्रशंसा को अपने सिर पर नहीं चढ़ने दिया, वे हमेशा विनम्र और मिलनसार ही रहते हैं।

मस्जिदों में अपने काम के माध्यम से साझा करने के लिए उनके पास कई दिलचस्प अनुभव हैं। उनके कुछ अनुभव आध्यात्मिक रहे हैं। कुमार ने अपने दो यादगार अनुभव भी साझा किए हैं। उनका कहना है कि चमत्कार हैं क्योंकि उन्होंने एक दिव्य उपस्थिति महसूस की। अनिल कुमार ने कहा कि रमजान के महीने में रात की नमाज के बाद जब लगभग सभी लोग मस्जिद से निकल चुके थे, वह पवित्र कुरान के कुछ छंदों को चित्रित कर रहे थे, वह थके हुए थे और उन्हें नींद आ रही थी और जल्द ही ब्रश के साथ ऊंचे स्टूल पर खड़े होकर सो गए। उन्होंने कहा कि जब वह एक घंटे से अधिक समय के बाद उठे, तो उन्होंने देखा कि छंद पहले से ही चित्रित थे।

उनका एक अनुभव दु: खद भी था उन्होंने कहा कि वह गिरने से बच गए। एक मस्जिद में सुलेख का काम खत्म करने के बाद वह लकड़ी की सीढ़ी पर चढ़ गए। जैसे ही वह आखिरी पेड़ी से नीचे उतरे, पूरी सीढ़ी ढह गई अनिव बताते हैं कि “यह ऐसा था जैसे सीढ़ी मेरा काम खत्म करने की प्रतीक्षा कर रही थी ताकि वह टूट सके। यह सब एक सेकंड के एक अंश के भीतर हुआ, मैं अवाक रह गया, ”अनिल कुमार ने बताया कि ” ये ऐसी घटनाएं जहां मैं अपने आस-पास किसी प्रकार की दिव्य उपस्थिति महसूस कर सकता हूं, और मुझे एहसास होता है कि मैं इसका अनुभव करने के लिए भाग्यशाली हूं। मेरे काम से भगवान भी खुश हैं,”।

छोटा भाई करता है मदद

अनिल कुमार के बच्चों ने पेंटिंग या सुलेख नहीं सीखा है। हालांकि उनका छोटा भाई उनकी सहायता करता है। उनके दोनों बच्चे स्नातक हैं और निजी क्षेत्र में कार्यरत हैं। अनिल अफसोस ज़ाहिर करते हुए कहते हैं कि  “सुलेख मर रहा है। एक तो इसे बहुत कम लोग जानते हैं दूसरा जो जानते हैं उनके पास नौकरी के ज्यादा अवसर भी नहीं हैं। जिसका मुझे दुख है”।

अपने काम के माध्यम से, अनिल कुमार ने भले ही बहुत अधिक पैसा न कमाया हो, लेकिन उन्होंने बहुत से लोगों से बहुत प्यार और सम्मान अर्जित किया है। इससे वह खुश हैं। उन्होंने अपना सारा जीवन हैदराबाद के पुराने शहर में बिताया है और मुसलमानों के साथ ही घूमते हैं, मस्जिदों में काम करते हैं और नात पढ़ते हैं। उनकी पसंदीदा नात पाकिस्तान के आज़म चिश्ती की है, जिसके बोल हैं-

ऐसा कोई महबूब न होगा, न कहीं है,

बैठा है चाटई पे, मगर अर्श नशीं है’।

मौजूदा समय में नफरत की सियासत ने जो आपसी भाईचारा बिगाड़ा है उस पर बात करते हुए अनिल कुमार कहते हैं कि “आज धर्म के नाम पर जो हो रहे हैं, उसके बारे में मुझे बुरा लगता है। प्रत्येक व्यक्ति को अपनी पसंद के धर्म का पालन करने का अधिकार है। धर्म के नाम पर कोई जबरदस्ती या बंटवारा क्यों करे”। अनिल ने कहा कि जब उन्होंने उन्हें मस्जिदों में काम करते देखा तो कई मुसलमानों ने उन्हें इस्लाम की दावत दी। जिस पर अनिल कहते हैं कि “मैं विनम्रता से मना करता हूं और वे चले जाते हैं। लेकिन कई बार कुछ लोग जिद करते हैं और फिर मैं उनसे कहता हूं, ‘इस्लाम में मजहब में कोई ज़ोरजबरदस्ती नहीं है’। यह सुनते ही वो लोग चुप हो जाते हैं, क्योंकि उन्हें मालूम है यह सच है।”

विज्ञापन