जब अमरीका व उसके घटक इराक़ में दाख़िल हुए तो उन्हें सामूहिक विनाश के हथियारों के बजाए, जिन्हें खोजने के लिए वे इराक़ आए थे, बड़ी मात्रा में सोने की ईंटें औ विदेशी मुद्रा मिली जिसके बारे में बरसों बीत जाने के बावजूद कोई ख़बर नहीं है।

रशिया टूडे ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि जैसे ही अमरीकी सैनिकों की नज़रें सोने की उन हज़ारों ईंटों पर पड़ी तो मानो वे अली बाबा के ग़ार में पहुंच गए और उन्होंने उन ईंटों के साथ फोटो खिंचवानी शुरू कर दी। दो हज़ार सोने की ईंटों वाले इस ख़ज़ाने का मूल्य उस समय लगभग पचास करोड़ आंका गया था। यह ख़ज़ाना इराक़ व सीरिया की सीमा के निकट स्थित अलक़ाएम नगर के पास एक ट्रक में पकड़ा गया था।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यह ट्रक, एक चालक और उसके सहयोगी के साथ अपनी मंज़िल की ओर जा रहा था और दोनों को यह भार ले जाने के लिए साढ़े तीन सौ डॉलर के बराबर रक़म मिलने वाली थी। ट्रक के मालिक का कहना था कि ट्रक में कांसे की ईंटें लदी हैं जिन्हें बग़दाद से अलक़ाएम ले जाया जा रहा है जहां इन ईंटों को एक अज्ञात व्यक्ति के हवाले करना था। कुछ ही दिन बाद अमरीकी सैनिकों को उत्तरी इराक़ के करकूक नगर की एक चेक पोस्ट पर ट्रक में एक हज़ार सोने की ईंटों का एक और ख़ज़ाना मिला जिसका मूल्य पैंतीस करोड़ डॉलर था। इस ट्रक के ड्राइवर ने बताया कि ईंटों के मालिक ने कहा था कि ये पीतल की ईंटें हैं और वह तीन सौ डॉलर के बदले में उन्हें करकूक ले जा रहा था।

अमरीकी सैनिकों को इसी प्रकार की सोने की ईंटों के कई और ख़ज़ाने मिले और अमरीकियों ने कहा कि वे उन्हें अमानत के तौर पर अपने पास रख रहे हैं और बाद में इन्हें इराक़ी जनता के प्रतिनिधियों के हवाले कर दिया जाएगा। इसके कुछ ही समय बाद अमरीकी संचार माध्यमों ने इस प्रकार की रिपोर्टें जारी कीं कि इराक़ में अमरीकी सैनिकों को जो सोने की ईंटें मिली थीं उनमें से अधिकतर पीतल और कांसे की थीं। उसके बाद से किसी ने भी इराक़ी राष्ट्र के इस मूल्यवान ख़ज़ाने के बारे में कोई बात नहीं की

News Courtesy – Iran Radio

Loading...