25994788 1181320541999683 559743961835125536 n

25994788 1181320541999683 559743961835125536 n

Publish Date: Mon 06-Jul-2015 – Republished – 12 Dec 2017

एक समय था जब पीलीभीत जिले के छोटे से गांव हरियापुर उत्तर प्रदेश के रहने वाले नुरुल हसन न्यूज पेपर पढ़ने के लिए ढाबे का चक्कर काटते थे। गरीबी की वजह से उनके घर पर न्यूज पेपर नहीं आता था, लेकिन नुरुल हसन को पढ़ने- लिखने का जुनून था। उन्हें ज्यादा से ज्यादा नॉलेज गेन करने का शौक था। आज वही नुरुल हसन न्यूज पेपर्स की सुर्खियां बटोर रहे हैं। उन्होंने यूपीएससी में ऑल इंडिया 625 रैंक हासिल की है। वे ओबीसी कैटेगरी की नॉन क्रिमीलेयर में आते हैं। उन्होंने आईपीएस के लिए क्वालीफाई कर लिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

नुरुल हसन का बचपन बेहद ही गरीबी में बीता, लेकिन उनकी मेहनत कभी संसाधनों का मोहताज नहीं रही। मूल रूप से पीलीभीत के रहने वाले नुरुल हसन के पिता शमशुल हसन पीलीभीत कचेहरी में चुतर्थ श्रेणी कर्मचारी थे। वे तीन भाई हैं। उनके पिता की इतनी आमदनी भी नहीं थी कि वे अपने तीनों बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में अच्छी शिक्षा दिला सकें।

25659987 1181320055333065 3292896148382323058 n

नुरुल हसन ने अपनी 8वीं तक की पढ़ाई ब्लॉक अमरिया के गांव हररायपुर स्थित जिल्हा परिषद विद्यालय से की। इसके बाद सरकारी स्कूल से हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे अपने परिवार के साथ बरेली आ गए। उनके पिता का ट्रांसफर बरेली की कचेहरी में हो गया। नुरुल ने इंटर एमबी इंटर कॉलेज से किया। संसाधनों की भारी कमी के बावजूद वे थ्रू आउट टॉपर रहे.

मेहनत में नहीं थी कमी

नुरुल हसन ने जो मुकाम आज हसिल किया है, उस सफलता का एक ही मंत्र है कड़ी मेहनत। इंटर के बाद उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से बी. टेक. किया। उसके बाद एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करने के बाद भाभा अटॉमिक रिसर्च सेंटर के नरोरा स्थित डिपार्टमेंट ऑफ अटॉमिक इनर्जी में बतौर साइंटिस्ट नियुक्त हुए। उन्होंने बड़े ही संघर्षो के साथ यह मुकाम हासिल किया। नुरुल हसन बताते हैं कि जब वे बरेली आए थे तो एजाज नगर गोटिया के मलिन बस्ती में एक छोटे से किराए के कमरे में परिवार के साथ रहते थे। उन्हें सिर्फ पढ़ाई का ही जुनून सवार था। दिन- रात केवल पढ़ाई ही करते थे। यहां तक कि उनके मकान मालिक केवल इसलिए रात में पढ़ाई करने से टोकने लगे कि बिजली का बिल ज्यादा आएगा, लेकिन नुरुल हसन के लक्ष्य के आगे कोई भी संसाधन आड़े नहीं आया।

25551928 1181320255333045 4182674876349581646 n

नुरुल हसन केवल अपना ही लक्ष्य साध रखा था बल्कि अपने परिवार का सहारा भी बनना चाहते थे। बीटेक करने के बाद उन्होंने अपने दोनों भाइयों की पढ़ाई का जिम्मा भी अपने हाथ ले लिया। उनके एक भाई जहीरुल हसन ने अभी एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की है। वहीं दूसरे भाई वसी हसन ने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब कर रहे हैं। आज नुरुल के इस कामयाबी पर न केवल पूरे परिवार में खुशी की लहर है बल्कि उनके माता- पिता का सीना भी फख्र से चौड़ा हो गया है.

25552066 1181320365333034 462261538122725683 n

यूथ को करते हैं इंस्पायर

नुरुल हसन किसी भी ऐसे यूथ को इंस्पायर करते हैं जो संसाधनों की कमी के आगे घुटने टेक देते हैं। आई नेक्स्ट की विशेष बातचीत में नुरुल हसन ने बताया कि यदि आप में कुछ कर गुजरने का जुनून है, कड़ी मेहनत करने का माद्दा रखते हैं तो सफलता आपके कदम चूमती है। चाहे वह किसी भी धर्म का भी क्यों न हो। मेहनत के आगे भेदभाव नहीं टिकता। नूरूल हसन ने बताया कि उन्होंने सेकेंड अटेंप्ट में यह कामयाबी हासिल की है। इसके लिए उन्होंने कोई कोचिंग नहीं की। नरोरा स्थित साइंटिस्ट नियुक्त होने के बाद से ही उन्होंने सेल्फ स्टडी शुरू कर दी थी। अपनी रेगुलर पढ़ाई और सतत प्रयास की वजह से ही वे कामयाब हुए हैं।……..

नोट – सोशल मीडिया पर नुरुल हसन की उम्र ’23 वर्ष की उम्र’ में आईपीएस बनने वाले से प्रचारित की जा रही है जबकि नुरुल ने इस बात का खुद खंडन करते हुए कहा है की उनकी उम्र फिलहाल 28 वर्ष है, तथा उन्होंने दो वर्ष पहले 2015 में सिविल सर्विसेज क्वालीफाई किया था, जिससे साफ़ होता है उस समय उनकी उम्र 26 वर्ष रही होगी. कोहराम ने खबर में  एक जगह 23 वर्ष लिख दिया था जिसका हमें खेद है