फतेहपुर जिले की शमशाद बेगम ने पुणे की रहने वाली एक हिंदू महिला को अपनी किडनी देकर उसे एक जिंदगी देने का फैसला किया है. 

शमशाद बेगम कुछ दिन पहले पुणे में रहने वाली अपनी बहन जुनैदा खातून से मिलने गई थी. इस दौरान वे अस्पताल में भर्ती जुनैदा की सहेली आरती को देखने पहुंची. जुनैदा खातून की सहेली आरती एयरइंडिया में नौकरी करती है. आरती की दोनों किडनियां खराब हो चुकी हैं जिसकी वजह से वह जिंदगी और मौत से जूझ रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आरती के इस दर्द को शमशाद बेगम से देखा नहीं गया. शमशाद बेगम ने अस्पताल में ही आरती को नया जीवन देने के लिए अपनी किडनी दान करने का फैसला कर लिया. शमशाद बेगम के इस फैसले में उसके पूरे परिवार ने भी उसका पूरा साथ दिया.

डोनर शमशाद बेगम (40) और रेसिपेंट आरती (38) ने सभी मेडिकल एग्जामिनेशन को पूरा कर शमशाद ने जिला स्वास्थ विभाग में किडनी देने के लिए सभी दस्तावेज भी जमा कर दिए हैं. अब केवल राज्य सरकार की ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन कमेटी की इजाजत का इन्तजार किया जा रहा हैं.

शमशाद ने अपने इस फैसले को लेकर कहा, “मैं किडनी देने के लिए तैयार हूं. किसी भी इन्सान का धर्म इंसानियत होना चाहिए. यह एक इन्सान के लिए महज छोटा सा बलिदान है.”

Loading...