Saturday, May 15, 2021

नशा छोड़ने वालों के मुफ्त में बाल काटता है यह नाई

- Advertisement -

शराब पीने से होने वाली मौतों से परेशान एक नाई ने इससे लड़ने के लिए अनोखा तरीका निकाला है। गांधीनगर में नाई का काम करने वाले प्रवीण मास्टर ने लोगों की शराब की आदत छुड़वाने का दिलचस्प तरीका खोजा है। शराब और सिगरेट की आदत छोड़ने का वादा करने वालों के बाल काटने और दाढ़ी बनाने का वह पैसा नहीं लेते हैं।

 इतना ही नहीं, प्रवीण लोगों से यह वादा भी करते हैं कि अगर शराब और सिगरेट 3 महीने तक छोड़ने के बाद भी उन्हें अपनी जिंदगी में सकारात्मक बदलाव महसूस नहीं हुआ, तो वह खुद जिंदगी भर उनके शराब-सिगरेट का खर्च उठाएंगे। प्रवीण की उम्र केवल 35 साल है और उन्होंने अपने 3 दोस्तों को शराब पीने से होने वाली बीमारियों के कारण मरता हुआ देखा है।

प्रवीण अपने दोस्तों की आर्थिक तौर पर मदद करना चाहते थे, लेकिन अपनी कमजोर माली हालत के कारण वह ज्यादा कुछ नहीं कर सके। इसके बाद ही उन्होंने शराब-सिगरेट छोड़ने का वादा करने वाले ग्राहकों को मुफ्त सेवा देने के बारे में सोचा। 2 साल पहले उन्होंने इसपर अमल करना शुरू किया। अभी तक वह 15 लोगों की शराब-सिगरेट की लत छुड़ा चुके हैं। इनमें से कुछ लोग जहां प्रवीण को अपना ‘डॉक्टर’ कहते हैं, वहीं उनके सलून को ‘नशामुक्ति केंद्र’ मानते हैं।

अपने बारे में बताते हुए प्रवीण कहते हैं कि अगर शराब-सिगरेट के कारण किसी को कैंसर जैसी बीमारी होती है, तो उनकी मदद करने की स्थिति में वह नहीं होंगे। उन्होंने कहा, ‘लेकिन मैं शराब पीकर मरने से लोगों को रोक तो सकता ही हूं।’ प्रवीण कहते हैं, ‘जब कोई ग्राहक मेरे पास आता है और शराब-सिगरेट छोड़ने का वादा करता है, तो मैं उससे तीन महीने तक ऐसा करने को कहता हूं। मैं कहता हूं कि अगर उसे अपनी जिंदगी में सकारात्मक बदलाव महसूस नहीं हुआ तो मैं खुद जिंदगी भर के लिए उनके शराब-सिगरेट का खर्च उठाऊंगा। जिसने भी यह आदत छोड़ी, उसका कहना है कि उसकी सेहत और आर्थिक हालत में बेहतरी आई है। इसके बाद वे लोग बाकियों को भी मेरी मदद लेकर यह लत छोड़ने की सलाह देते हैं।’

प्रवीण ने जिन लोगों की लत छुड़ाई है, उनवमें 34 साल के प्रकाश परमार भी शामिल हैं। उन्होंने शराब और सिगरेट की अपनी लत छोड़ी। वह कहते हैं कि प्रवीण की सलाह उनके लिए काम कर गई। प्रकाश बताते हैं, ‘मैंने 6 महीने से शराब-सिगरेट नहीं पीया है। मेरी पारिवारिक और आर्थिक स्थिति में काफी सुधार आया है। मैंने शराब और सिगरेट इसलिए नहीं छोड़ी कि मुझे मुफ्त में बाल और दाढ़ी कटवाना था। मैंने यह लत इसलिए छोड़ी क्योंकि प्रवीणभाई ने मुझे एक डॉक्टर की तरह समझाया।’

57 साल के रामभाई कनोजिया की गांधीनगर में परचून की दुकान है। वह बताते हैं कि उन्हें भी शराब और सिगरेट जैसे नशे की लत थी, लेकिन प्रवीण की सलाह के बाद उन्होंने अपनी लत छोड़ दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles